top menutop menutop menu

शराब पीकर हुड़दंग करने पर रोकने से अनुसूचित जाति के युवक की हत्या के बाद धरना-प्रदर्शन

संवाद सहयोगी अग्रोहा :अग्रोहा थाना के अंतर्गत गांव असरावां में शनिवार देर शाम गांव के ही हथियारबंद युवकों द्वारा अनुसूचित जाति के युवक की हत्या के मामले में परिजनों सहित अनेक सामाजिक संगठनों ने अग्रोहा मेडिकल कालेज में पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। परिजनों ने सभी हमलावरों की गिरफ्तारी न होने तक शव का पोस्टमार्टम करवाने से इन्कार कर दिया था। शाम को उनकी मांगें मानते हुए मृतक की पत्नी को डीसी रेट पर नौकरी देने के साथ आरोपितों को 48 घंटे में पकड़ने का आश्वासन दिया गया। उसके बाद शाम को अग्रोहा थाना प्रभारी गुरमीत सिंह सहित डीएसपी नारायण चंद के समझाने के बाद परिवार के लोग पोस्टमार्टम करवाने पर तैयार हुए। बता दें कि जब परिवार के लोगों ने हमलावरों को घर के आगे शराब पीकर हुड़दंग बाजी करने से रोका तो उन्होंने हमला किया था।

अग्रोहा मेडिकल कालेज में मृतक के परिजनों ने पुलिस प्रशासन को मृतक के परिवार को मुख्यमंत्री राहत कोष से 50 लाख की मुआवजा राशी दिलवाने,मृतक की पत्नी को सरकारी नौकरी, मृतक के परिवार के लिए सुरक्षा, गांव में बना शराब ठेका बंद करने, गांव में अस्थायी पुलिस चौकी बनाने को लेकर अपना मांग पत्र सौंपा था। उसके बाद पुलिस प्रशासन ने मृतक की पत्नी को डीसी रेट पर नौकरी देने, आरोपितों को 48 घंटे के अंदर गिरफ्तार करने, सरकार से व प्रशासन से मृतक परिवार को जायज मुआवजा राशी दिलवाने, गांव में अस्थायी पुलिस चौकी बनवाने, मृतक परिवार को सुरक्षा देने व मृतक के परिजनों को शस्त्र लाइसेंस देने, गांव से शराब का ठेका हटवाने आदि मांगों को माना लिया। इसके बाद स्वजनों ने अग्रोहा मेडिकल से शव लेकर उसका गांव में अंतिम संस्कार कर दिया।

इस मौके पर विभिन्न संगठनों से जुड़े लोग, जिनमें एडवोकेट रजत कलसन, प्रवीण चबरवाल, जिला पार्षद संदीप छाछिया, जय भीम आर्मी से संजय चौहान, बजरंग खिचड़, बलराज सातरोड, अजय भाटला, दिलबाग सिंह, सुग्रीव, मुकेश कामरेड, प्रेम लांग्याण, सुभाष लांग्याण आदि मौजूद थे।

-----------

यह है मामला

गौरतलब है कि गांव असरावां के निवासी अनमोल, राहुल, राकेश, सुंदर, विष्णु, वजीर, सोनू, पवन और सुरेंद्र उर्फ कालू ने गांव के ही एक अनुसूचित जाति परिवार के लोगों पर हमला कर दिया था, जिसमें एक युवक फिरोजी उर्फ फौजी की मौत हो गई थी, जबकि उसके भाई सुरेश, धीरा, उनकी पत्नियां गंभीर रूप से घायल हो गई थी। उन्हें उपचार के लिए अग्रोहा मेडिकल के आपातकाल विभाग में दाखिल करवाया गया है। उपचाराधीन मृतक के भाई धीरा के बयान दर्ज कर हमलावरों के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट व हत्या का मामला दर्ज किया गया है। हमलावरों ने गांव में दहशत का माहौल बना रखा है, जो आए दिन गांव में लड़ाई-झगड़े करते हैं। आरोपितों पर लड़ाई-झगड़ों के मामले में पहले भी कोर्ट में केस चल रहे हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.