बहादुरगढ़ की मूक बधिर निरचरा खेल रही जूडो, फ्रांस की प्रथम विश्व जूडो चैंपियनशिप के लिए हुआ चयन

मूक बधिर खिलाड़ी निरचरा का चयन फ्रांस के वरसालिस में 27 से 30 अक्टूबर तक होने वाली प्रथम विश्व डीफ जूडो चैंपियनशिप के लिए हुआ है। इंदौर में छह सितंबर को चुनी गई छह सदस्यीय टीम में निरचरा का चयन 52 किलो भार वर्ग के लिए हुआ है।

Manoj KumarWed, 15 Sep 2021 12:03 PM (IST)
27 से 30 अक्टूबर तक फ्रांस के वरसालिस में होगी प्रथम फर्स्ट वर्ल्ड डीफ जूडो चैंपियनशिप, निरचरा का हुआ चयन

जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़: झज्जर के गांव जैतपुर निवासी जूडो खिलाड़ी निरचरा का चयन फ्रांस के वरसालिस में 27 से 30 अक्टूबर तक होने वाली प्रथम विश्व डीफ जूडो चैंपियनशिप के लिए हुआ है। इंदौर में छह सितंबर को चुनी गई छह सदस्यीय टीम में निरचरा का चयन 52 किलो भार वर्ग के लिए हुआ है। बचपन से बोल व सुन न सकने वाली निरचरा अपने बड़े भाई राजकुमार की मदद से जूडो खेलती है। कोच राजकुमार को तकनीक के बारे में जानकारी देता है और फिर वह निरचरा को इशारों में समझाता है। करीब छह साल पहले निरचरा ने गुरुग्राम के एक स्कूल में पढ़ाई के दौरान जूडो खेलना शुरू किया था।

वर्ष 2016 में उसने राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर खेलना शुरू किया। उसके बाद से निरचरा अब तक छह बार राज्य तो सात बार लगातार अपने भार वर्ग में नेशनल चैंपियन है। निरचरा के भाई राजकुमार ने बताया कि फिलहाल वह बहादुरगढ़ के आंबेडकर स्टेडियम में अर्जुन अवार्डी जूडो कोच पूनम चाेपड़ा के पास प्रशिक्षण ले रही है। उन्हें पूरी उम्मीद है कि निरचरा फ्रांस में होने वाली विश्व डीफ जूडो चैंपियनशिप में देश के लिए पदक जरूर प्राप्त करेगी। जैतपुर गांव से बहादुरगढ़ की दूरी करीब 50 किलोमीटर है और निरचरा हर रोज अपने भाई के साथ यहां पर कोच पूनम चोपड़ा के मार्गदर्शन में जी तोड़ मेहनत कर रही है।

निरचरा के पिता उमेद सिंह ने बताया कि उनकी बेटी भले ही बोल व सुन नहीं सकती लेकिन उसकी उपलब्धि खूब बोल रही हैं। मेरी बेटी फ्रांस में भी देश के लिए पदक जरूर जीतेगी। निरचरा के भाई राजकुमार का कहना है कि गूंगे बहरे खिलाड़ियों की उपलब्धि को लेकर प्रदेश सरकार की ओर से कोई भी प्रोत्साहन नही दिया जा रहा है। इससे खिलाड़ियों में निराशा है।

निरचरा की ये हैं उपलब्धियां:

- वर्ष 2016 में गुरुग्राम में हुई द्वितीय हरियाणा स्टेट ब्लाइंड एंड डीफ जूडो चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2018 में गुरुग्राम में हुई तृतीय हरियाणा स्टेट ब्लाइंड एंड डीफ जूडो चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2018 में रोहतक में हुई तृतीय हरियाणा स्टेट गेम्स आफ द डीफ प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2019 में गुरुग्राम में हुई चौथी हरियाणा स्टेट गेम्स आफ द डीफ प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2020 में गुरुग्राम में हुई पांचवीं हरियाणा स्टेट डीफ जूडो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2021 में गुरुग्राम में हुई छठी हरियाणा स्टेट डीफ जूडो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2016 में लखनऊ में हुई चौथी नेशनल ब्लाइंड एंड डीफ जूडो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2017 में गुरुग्राम में हुई पांचवीं नेशनल ब्लाइंड एंड डीफ जूडो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2018 में लखनऊ में हुई छठी नेशनल डीफ जूडो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

- जनवरी 2019 में चेन्नई में हुई छठी नेशनल डीफ जूनियर व सब जूनियर खेल प्रतियाेगिता में स्वर्ण पदक

- दिसंबर 2019 में कोझीकोड में हुई सातवीं नेशनल डीफ जूनियर व सब जूनियर खेल प्रतियाेगिता में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2020 में पंजाब के आनंदपुर साहिब में हुई आठवीं नेशनल डीफ जूडो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

- वर्ष 2021 में लखनऊ में हुई नौवीं नेशनल डीफ जूडो प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक

निरचरा बहुत होनहार खिलाड़ी, विश्व जूडो चैंपियनशिप में जरूर जीतेगी पदक:पूनम

बहादुरगढ़ के आंबेडकर स्टेडियम में जूडो कोच अर्जुन अवार्डी पूनम चोपड़ा ने बताया कि निरचरा मेरे पास ट्रेनिंग ले रही है। वह हर रोज कड़ा अभ्यास करती है। निरचरा बहुत होनहार खिलाड़ी है। पदक जीतने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रही है। वह फ्रांस में होने वाली विश्व जूडो प्रतियोगिता में देश के लिए पदक जरूर हासिल करेगी। मेरी शुभकामनाएं उसके साथ हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.