सिर पर परीक्षाओं का मौसम, स्माग उम्मीदों पर लगा रहा ग्रहण, कई दिनों से स्कूल बंद

CBSE Exam हरियाणा में परीक्षाओं का मौसम शुरू हो चुका है। सीबीएसई कक्षा दस और दस जमा दो के माइनर विषयों के पेपर शुरु हो चुके है और मुख्य विषयों के पेपर आखिरी सप्ताह में शुरु होंगे। देखा जाए तो वर्ष 2021 का दिसंबर माह परीक्षाओं में ही बीत जाएगा।

Rajesh KumarMon, 22 Nov 2021 09:15 PM (IST)
CBSE Exam: सीबीएसई कक्षा दस और दस जमा दो की परीक्षाएं शुरू।

अमित पोपली, झज्जर। CBSE Exam: परीक्षाओं का समय आ गया है। जिनके परिवार में बच्चे बोर्ड की परीक्षाएं दे रहे हैं, वहां सर्दी के दिनों में भी चिंता के कारण तापमान बढ़ता हुआ महसूस होने लगा है। विद्यार्थियों ने गैजेट्स को किताबों, पेन और पेपर से बदल दिया है और देर रात तक मेहनत कर रहे हैं। सीबीएसई कक्षा दस और दस जमा दो के माइनर विषयों के पेपर शुरु हो चुके है और मुख्य विषयों के पेपर आखिरी सप्ताह में शुरु होंगे। देखा जाए तो वर्ष 2021 का दिसंबर माह परीक्षाओं में ही बीत जाएगा।

देखने को मिलेगा कुछ नया

कोविड को मद्देनजर रखते हुए सीबीएसई के स्तर में हो रहे इस प्रयोग में बहुत कुछ नया होने जा रहा हैं। एक घंटे के पेपर में जहां 20 मिनट अतिरिक्त पेपर रीडिंग के लिए मिलेंगे। वहीं, एमसीक्यू फोरमेट से विद्यार्थी परीक्षाएं देंगे। जिसके लिए वे पिछले कई दिनों से तैयारी भी कर रहे हैं। लेकिन, चल रही इस तैयारी में खास तौर पर झज्जर जिला सहित एनसीआर क्षेत्र में आने वाले अन्य कुछ जिलों के हजारों बच्चों को इन दिनों में पूरा समय स्कूल जाने का मौका नहीं मिल पा रहा। जिनके यहां पर स्कूल खोलने को लेकर प्रतिबंध लागू किए गए हैं। कुल मिलाकर, कोविड के बाद स्माग के रुप में छाया यह धुंआ इन विद्यार्थियों के भविष्य की उम्मीदों को जरुर प्रभावित कर रहा हैं। जिसकी वजह से विद्यार्थी, अभिभावक एवं स्कूल संचालक चिंतित है।

ठोस रणनीति के साथ करें अपनी तैयारी

मनोवैज्ञानिक हेमा गुप्ता के मुताबिक बेशक ही अब की दफा ऐसा दिख रहा है कि काफी कुछ बदल गया है। फिर भी बहुत सी चीजें हैं जो नहीं हुई हैं, और वह यह है कि विद्यार्थियों का मनोबल। दरअसल, छात्र परीक्षा से ठीक पहले घबरा जाते हैं और अंतिम रणनीति खोजने के लिए संघर्ष करते हैं। जबकि, ऐसा नहीं होना चाहिए। हमें यह समझना होगा कि कोविड के दौर से हम जिस तरह बाहर निकल आए है, परीक्षाओं के दिनों में भी परेशान नहीं होना है। परीक्षा में बेहतर स्कोर करने के लिए, आपके पास एक कुशल और ठोस रणनीति होनी चाहिए जो आपको अपनी अकादमिक उत्कृष्टता प्राप्त करने में मदद करेगी और आपको थकान भी महसूस नहीं होने देगी। बस आप आत्मविश्वास से अपनी परीक्षा की तैयारी में जुटे रहें।

अपनी ताकत और कमजोरियों का स्व-मूल्यांकन करें

वर्ल्ड मेडिकल कालेज के चेयरमेन डा. नरेंद्र सिंह के मुताबिक आपको सबसे पहले यह समझने की जरूरत है कि कौन से विषय आपकी ताकत हैं और कौन सी कमजोरियां। यह एक बहुत ही साधारण बात लग सकती है, लेकिन इससे बहुत फर्क पड़ता है। विश्लेषण करें कि आपको किन विषयों में विशेषज्ञता प्राप्त है और किन विषयों पर आपको विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। मान लीजिए आप 5 मिनट में 20 गणित के समीकरण हल कर सकते हैं। लेकिन एमसीक्यू में भौतिकी के सिद्धांतों को हल करने के लिए समय चाहिए, तो हमें उसी हिसाब से अपना मूल्यांकन करना है।

आखिर क्यों बंद नहीं हुआ पब्लिक ट्रांसपोर्ट

स्कूलों को बंद किए जाने के विषय पर अभिभावक एवं विद्यार्थी, दोनों नाराज है। कहना है कि प्रदूषण को कम करने की सोच को केंद्र में रखते हुए जब स्कूलों की बसों को बंद करवा दिया गया है तो पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद क्यों नहीं किया जा रहा।

प्रतिक्रिया

सहोदय संस्था के प्रधान रमेश रोहिल्ला ने  बताया कि बेशक ही झज्जर जिला सहित उन सभी जिलों के विद्यार्थियों के साथ मौजूदा दिनों में अन्याय हो रहा है। जहां पर स्माग की वजह से प्रतिबंध लगे हुए हैं। आखिरी दिनों में विद्यार्थी स्कूल तक पहुंचकर अपने डाउट भी क्लीयर नहीं कर पा रहे। जिसकी वजह से हर कोई चिंता में है। जबकि, स्कूलों को बंद करते हुए किस तरह से प्रदूषण को कम करने का प्रयोग हो रहा है। यह समझ से परे है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.