top menutop menutop menu

औद्योगिक क्षेत्रों में कब होगी पार्किंग की बेहतर व्यवस्था

औद्योगिक क्षेत्रों में कब होगी पार्किंग की बेहतर व्यवस्था
Publish Date:Mon, 03 Aug 2020 05:28 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: साइबर सिटी के औद्योगिक हब में पार्किंग सुविधा का भारी अभाव है। उद्योग विहार व सेक्टर-37 जैसे औद्योगिक क्षेत्र की बात की जाए तो इस मामले में इनकी स्थिति काफी खराब है। जहां उद्योग विहार में सरकारी स्तर पर पार्किंग की कोई व्यवस्था नहीं है, वहीं सेक्टर-37 में पार्किंग की जगह तो है मगर इन पर निजी ट्रक वालों का भारी अतिक्रमण है।

औद्योगिक क्षेत्रों में पार्किंग के अभाव का जब भी नाम आता है तो उसमें उद्योग विहार का नाम सबसे पहले आता है। यहां के फेज-1 से फेज-5 तक में पार्किंग का नहीं होना बड़ी समस्या है। यहां की सड़कों के दोनों किनारों पर वाहनों को खड़ा करना उद्यमियों से लेकर औद्योगिक कामगारों की मजबूरी हो गई है। ऐसे में सुबह-शाम के समय यहां की सड़कों पर रोजाना भारी जाम लगता है। उद्योग विहार में 2000 से अधिक औद्योगिक, आइटी और कॉरपोरेट इकाइयां हैं।

हरियाणा इंडस्ट्रियल एसोसिएशन के चेयरमैन किशन कपूर का कहना है कि पिछले कई सालों से पार्किंग की मांग की जा रही है, मगर अफसोस की बात है कि कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने कहा कि हरियाणा स्टेट इंडस्ट्रियल एंड इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन (एचएसआइआइडीसी) द्वारा पिछले साल उद्योग विहार फेज-4 में मल्टीलेवल पार्किंग बनाने की योजना तैयार की गई थी। इसका क्या हुआ कुछ पता नहीं।

सेक्टर-37 औद्योगिक क्षेत्र में पार्किंग के चार से पांच स्थल हैं। इन सभी पर निजी ट्रक वालों का कब्जा है। यहां स्थित एक ऑटोमोबाइल कंपनी के संचालक का कहना है कि इस पार्किंग स्थल का लाभ यहां के उद्यमियों और औद्योगिक इकाइयों में काम करने वालों को नहीं मिल रहा है। उनका कहना है कि निजी ट्रक वालों का पार्किंग स्थल से कब्जा हटना चाहिए। आइएमटी मानेसर में आइएटी सेक्टर-3 में ही पार्किंग की सुविधा है। यहां फैक्टरियों और कर्मचारियों की दृष्टि से पार्किंग स्थल बनाने की जरूरत है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.