top menutop menutop menu

गुरुग्राम विश्वविद्यालय में हुआ वेबिनार

जासं, गुरुग्राम : गुरुग्राम विश्वविद्यालय में विश्व युवा कौशल दिवस के उपलक्ष्य में 'जीवन में साहस का महत्व' विषय पर वेबिनार हुआ। विवि के कुलपति डॉ. मार्कंडे आहूजा ने युवाओं को कहा कि जीवन में साहस की कमी हमें कमजोर बना देती है। बच्चे पर वातावरण का प्रभाव सबसे ज्यादा पड़ता है। अगर बच्चा ऐसे वातावरण में बड़ा होता है जहां नकारात्मक बातें ज्यादा होती हैं तो उसका साहस कमजोर होगा। यदि बच्चा सकारात्मक वातावरण में बड़ा होता है तो उसका साहस मजबूत होगा। मजबूत साहस इंसान को हर परिस्थिति से लड़ने में मदद करता है। उन्होंने शिवाजी महाराज का उदाहरण देते हुए कहा कि शिवाजी साहसी थे तो केवल और केवल जीजाबाई की वजह से। जिन्होंने बचपन से उन्हें साहसी कहानियां सुनाई। साहस का संचार गर्भस्थ अवस्था से ही करना जरूरी है। कोरोना जैसी महामारी का सामना भी हम साहस के जरिए कर सकते हैं। साहस होगा तो कौशल का बेहतर विकास होगा। इस वेबिनार को एजुकेशन ग्रुप संस्था के जरिये भी दिखाया गया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.