Farmers Protest : शांतिपूर्ण तिरंगा यात्रा निकालना किसानों का अधिकार : राजन राव

दक्षिण हरियाणा के प्रभारी राजन राव ने केंद्र की सरकार पर निशाना साधा है।

दक्षिण हरियाणा के प्रभारी राजन राव ने किसान आंदोलन पर कहा है कि गणतंत्र दिवस का उत्सव हर देशवासी को मनाने का अधिकार है। राव ने कहा किसान अगर तिरंगा यात्रा करना चाहता है तो इसमें बुराई क्या है।

Prateek KumarWed, 20 Jan 2021 09:44 PM (IST)

गुरुग्राम, ऑनलाइन डेस्‍क।। हरियाणा प्रदेश कांग्रेस समिति की अध्यक्षा, कुमारी सैलजा के राजनैतिक सचिव व दक्षिण हरियाणा के प्रभारी राजन राव ने केंद्र की मोदी सरकार को अलोकतांत्रिक करार देते हुए कहा कि 26 जनवरी को दिल्ली की सड़कों पर किसान तिरंगे के साथ ट्रैक्टर यात्रा करना चाहते हैं लेकिन सरकार के नुमाइंदे इस यात्रा को देश की बदनामी से जोड़कर भावनात्मक ब्लैकमेलिंग करना चाहती है। शांतिपूर्ण तरीके से तिरंगा यात्रा निकालना किसानों का अधिकार है।

किसान दिल्ली की सड़कों पर तिरंगा यात्रा निकाल लेगा तो अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर देश की बदनामी हो जाएगी? गणतंत्र दिवस का उत्सव हर देशवासी को मनाने का अधिकार है। राव ने कहा किसान अगर तिरंगा यात्रा करना चाहता है तो इसमें बुराई क्या है। उन्होंने कहा कि कहा कि मोदी सरकार का रिमोट कंट्रोल चंद पूंजीपतियों के हाथ है।

कृषि कानूनों पर सरकार की मंशा से साफ है कि प्रधानमंत्री मोदी पूंजीपतियों के हाथ की कठपुतली हैं। देश में सरकार नाम की कोई चीज कायम नहीं है, देश को अंबानी और अडानी जैसे पूंजीपति चला रहे हैं। कोई भी फैसला लेने से पहले आमजन से रायशुमारी करने या अपने विवेक का इस्तेमाल करने की बजाय मोदी सरकार पूंजीपतियों से पूछती है। तीनों काले कृषि कानून भी पूंजीपतियों की शह पर ही बनाए गए हैं। इन कानूनों से पूंजीपतियों के अलावा किसी को भी लाभ नहीं है। उन्होंने कहा कि जब सरकार का कानून वापिस नहीं लेने का अड़ियल रुख कायम है तो बार बार किसानों के साथ वार्ता का ढोंग क्यों किया जा रहा है। केंद्रीय कृषि मंत्री हर वार्ता से पहले और बाद में एक ही बयान देते हैं कि सरकार कानून वापिस नहीं लेगी।

दसवें दौर की वार्ता से पहले भी कृषि मंत्री का बयान निराशाजनक है। एक तरफ सरकार गतिरोध टूटने की उम्मीद लगाए है तो दूसरी तरफ खुद गतिरोध का कारण बन रही है। सरकार वार्ता का स्वांग रचा किसानों को तोड़ने का प्रयास कर रही है, लेकिन किसान किसी भी कीमत पर टूटने और झुकने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि किसान एक ही मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैैं और वह है तीनों कृषि कानूनों को रद करने की। जब तक सरकार तीनों कानूनों को रद नहीं करती तब किसान घर वापसी नहीं करेंगे।

सरकार के इशारे पर कुछ तथाकथित किसान नेता दूसरे समर्पित किसान नेताओं को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैैं। उनका नाम कांग्रेस से जोड़कर उन्हें आंदोलन से अलग थलग करने की साजिश हो रही है। पूरा देश किसानों के साथ खड़ा है। कांग्रेस शुरू से ही इन कृषि कानूनों का विरोध कर रही है। कांग्रेस का स्टैंड शुरू से इन कृषि कानूनों के प्रति एकदम साफ है। कांग्रेस काले कानूनों को किसी भी कीमत पर किसानों पर थोपने नहीं देगी। कांग्रेस किसानों के साथ उनकी हर लड़ाई में शरीक थी, है और रहेगी।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.