रिपब्लिकन नेशनल कमेटी के सदस्य गौरव अग्रवाल ने कहा, यूएस राजनीति में भारतवंशियों का दबदबा बढ़ा

अमेरिका का राष्ट्रपति कोई भी बने भारत की अहमियत नहीं हो सकती है कम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बनी छवि का लाभ देश से बाहर रह रहे लोगों को काफी मिल रहा है। उनके बारे में वहां के देशों के नेताओं का नजरिया बदल गया है। अमेरिका में हर तरफ नरेंद्र मोदी के अंदाज को लेकर खूब चर्चा होती है।

Neel RajputFri, 06 Nov 2020 02:58 PM (IST)

गुरुग्राम [आदित्य राज]। अमेरिका की राजनीति में भारतवंशियों का दबदबा तेजी से बढ़ रहा है। इस बार के चुनाव में भारतवंशियों ने बेहतर पहचान बनाई है। हर स्तर पर सभी ने उपस्थिति दर्ज कराई है। यह आत्मविश्वास व मनोबल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वजह से बढ़ा है। ऐसे में राष्ट्रपति कोई भी बने, भारत की अहमियत कम नहीं होगी।

यह जानकारी अमेरिका के न्यूयार्क में आइटी सेक्टर के उद्यमी, एनआरआइ व रिपब्लिकन नेशनल कमेटी के सदस्य गौरव अग्रवाल ने फोन पर दैनिक जागरण से बातचीत में दी। गौरव अग्रवाल का गुरुग्राम में भी कारोबार है। इस वजह से वह कुछ महीने अमेरिका तो कुछ महीने भारत में रहते हैं। डीएलएफ इलाके की एक सोसायटी में उनका फ्लैट है। उनका कहना है कि अमेरिका में भारतीय मूल के लगभग 50 लाख लोग रहते हैं। भारतीय मूल के लोग पहले भी चुनाव में अपनी भूमिका निभाते थे लेकिन जिस तरह से इस बार सभी ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई है, ऐसा पहले कभी नहीं दिखा। उपस्थिति बता रही है कि लोगों में आत्मविश्वास काफी बढ़ा है। सभी अमेरिका के भीतर अपनी राजनीतिक अहमियत को महसूस कर चुके हैं।

अमेरिका में मोदी के अंदाज की चर्चा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बनी छवि का लाभ देश से बाहर रह रहे लोगों को काफी मिल रहा है। उनके बारे में वहां के देशों के नेताओं का नजरिया बदल गया है। अमेरिका को ही ले लें, हर तरफ नरेंद्र मोदी के अंदाज को लेकर खूब चर्चा होती है। अमेरिका में मूल निवासी भी नरेंद्र मोदी को एक अंतरराष्ट्रीय नेता के रूप में देखते हैं। इस वजह से भारतवंशियों का आत्मविश्वास व मनोबल बढ़ा है। इसके पीछे मूल कारण यह है कि मोदी जिस देश में जाते हैं वहां पर भारतवंशियों से संवाद करते हैं। यही संवाद मनोबल बढ़ा देता है। अमेरिका के चुनाव में बढ़-चढ़कर भूमिका निभाना भारतवंशियों के बढ़े आत्मविश्वास का सबसे बड़ा उदाहरण है।

अमेरिका से बेहतर ही रहेंगे भारत के संबंध

गौरव अग्रवाल कहते हैं कि राष्ट्रपति कोई भी बने, अमेरिका से भारत के संबंध बेहतर ही रहेंगे। अमेरिका के हर क्षेत्र में भारतवंशियों की विशेष पहचान है। वहां के विकास में भारतवंशी विशेष योगदान दे रहे हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अंतरराष्ट्रीय मामलों में विशेष सक्रियता से पूरी दुनिया में भारत की अहमियत बढ़ी है।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.