दिव्यांगों को प्रदेश भर में आवंटित किए जाएंगे 50 हजार वीटा मिल्क बूथ

हरियाणा राज्य दिव्यांगजन आयुक्त राजकुमार मक्कड़ ने कहा कि दिव्यांगों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार प्रदेशभर में 50 हजार वीटा मिल्क बूथ आवंटित करने जा रही है। रेवाड़ी जिले में दो हजार स्थानों को चिन्हित किया गया है।

JagranSun, 28 Nov 2021 07:24 PM (IST)
दिव्यांगों को प्रदेश भर में आवंटित किए जाएंगे 50 हजार वीटा मिल्क बूथ

जागरण संवाददाता, रेवाड़ी: हरियाणा राज्य दिव्यांगजन आयुक्त राजकुमार मक्कड़ ने कहा कि दिव्यांगों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार प्रदेशभर में 50 हजार वीटा मिल्क बूथ आवंटित करने जा रही है। रेवाड़ी जिले में दो हजार स्थानों को चिन्हित किया गया है। हरियाणा राज्य दिव्यांगजन आयुक्त रविवार को बतौर मुख्य अतिथि महाराजा अग्रसेन स्कूल में भारत विकास परिषद द्वारा आयोजित कृत्रिम अंग मापतौल शिविर का शुभारंभ करने के लिए पहुंचे थे। विशिष्ट अतिथि के तौर पर जजपा के बीसी सेल अध्यक्ष धर्मबीर चौकन मौजूद रहे। अध्यक्षता भारत विकास परिषद के प्रांतीय अध्यक्ष महेंद्र शर्मा ने की। आयुक्त राजकुमार मक्कड़ ने कहा कि वीटा मिल्क बूथ के लिए सात दिव्यांग व सात सामान्य लोग मिलकर सेल्फ हेल्प ग्रुप बना सकते हैं। हर सरकारी स्कूल, कालेज, भीड़ भाड़ वाले सार्वजनिक स्थानों पर वीटा बूथ खोले जाएंगे। इसके अतिरिक्त दिव्यांगों को हर हित स्टोर भी आवंटित किए जा रहे हैं, जिनमें डेढ़ लाख रुपये तक का सामान सरकार भरवाकर दे रही है। आयुक्त ने कहा कि जल्दी ही प्रदेश सरकार दिव्यांगजन फ्रैंडली एक हजार बसें खरीदने जा रही है। इन इलेक्ट्रोनिक बसों में पायदान की ऊंचाई काफी कम होगी जिससे दिव्यांगजन आसानी से इनमें चढ़ सकेंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से दिव्यांगजनों के लिए यूडीआइडी कार्ड बनाए जा रहे है। कोई भी दिव्यांग अपने नजदीकी सीएससी/अटल सेवा केंद्र पर जाकर पंजीकरण करा सकता है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी आवेदक से संपर्क कर उसका कार्ड बनवाएंगे। इसके अतिरिक्त कृत्रिम अंग और सहायक उपकरण के लिए भी सीएससी पर जाकर पंजीकरण कराया जा सकता है।

आयुक्त ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल की दिव्यांगजन कल्याण को समर्पित किए गए कार्यों को लेकर प्रशंसा करते हुए कहा कि पंचकुला के राजकीय इंजीनियरिग कालेज में दिव्यांगजनों के लिए निश्शुल्क पांच नए कोर्स आरंभ किए गए हैं, जोकि अगले वर्ष आठ हो जाएंगे। दिव्यांगजनों के पुनर्वास के लिए अंतरराष्ट्रीय दिव्यांगजन दिवस के अवसर पर तीन दिसंबर को मुख्यमंत्री अंबाला में केंद्र की आधारशिला रखेंगे। ऐसा एक केंद्र करनाल जिला के कुटेल में भी खुलेगा।

भारत विकास परिषद के अध्यक्ष रमेश सचदेवा ने बताया कि शिविर में 60 दिव्यांगों का मापतौल किया गया है तथा शीघ्र ही उनको कृत्रिम अंग दिए जाएंगे। इस अवसर पर महाराजा अग्रसेन स्कूल के प्रधान रत्नेश बंसल, भाविप के प्रांतीय महासचिव डा. आरबी यादव, प्रांतीय सचिव संजय शर्मा, दिनेश सैनी जिला सचिव, कृष्ण जांगिड़ कैशियर, एडवोकेट कमल निबल, डा. आरके जांगड़ा, हुकमचंद प्रजापत, ओमप्रकाश आदि मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.