मौसम का यू-टर्न, बेमौसमी बरसात व ओलावृष्टि से किसान घबराएं, 20 फीसद तक हुआ नुकसान

जागरण संवाददाता, फतेहाबाद:

मौसम विभाग की भविष्यवाणी सच साबित हुई। शुक्रवार को मौसम ने एका-एक पलटी मारी। जिले में कुछ तेज हवा के साथ बरसात हुई तो दरियापुर, धांगड़, काजलहेड़ी सहित अनेक स्थानों पर कुछ समय के लिए ओलावृष्टि भी हुई। तेज हवा के कारण अनेक जगह वृक्ष भी टूटकर गिर गये। मौसम विभाग की माने तो आगामी 2 दिनों तक ऐसे ही मौसम परिवर्तनशील रहेगा। गांव तेज हवा के साथ बरसात होने के कारण धान की फसल भी जमीन पर बिछ गई। किसानों की माने तो इस बरसात से 20 फीसद तक नुकसान हुआ है। अगर आगामी दिनों में मौसम ऐसा ही रहता है तो किसानों की उम्मीदों पर पानी फिर सकता है।

----------------------------------

मंडी में नहीं मिली कोई व्यवस्था

मौसम एक साथ बदलने के साथ ही मार्केट कमेटी के अधिकारियों व व्यापारियों की कोई व्यवस्था तक नहीं रही। धान की तुलाई होने के कारण सैकड़ों की संख्या में बोरियां मंडी में पड़ी थी। बरसात होने के कारण ये धान की बोरियां भी भीग गई। वहीं डीसी ने आदेश दिए थे कि मंडी में तिरपाल की व्यवस्था होनी चाहिए। लेकिन ऐसा कुछ भी देखने को नहीं मिला। किसान अपने स्तर पर इन ढेरियों को ढक्कते हुए नजर आए। अगर तेज बरसात होती तो जो नुकसान होता तो इसकी भरपाई कौन करता।

----------------------------------

तापमान में आई गिरावट

पिछले कुछ दिनों से मौसम में बदलाव रोज आ रहा है। शुक्रवार शाम को हुई बरसात के कारण तापमान फिर गिर गया। अधिकतम तापमान 29 डिग्री व न्यूनतम तापमान 19 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अगर आगामी दिनों में ऐसे ही मौसम रहा तो तापमान में गिरावट आ सकती है। कृषि अधिकारियों की माने तो आसपास के क्षेत्र में 2 एमएम बरसात हुई है। वहीं ओलावृष्टि एक से दो मिनट तक हुई है। ओलावृष्टि के बाद रात के तापमान में और गिरावट आ सकती है।

----------------------------

ये बोले किसान

किसान सुरेश, महेश, सुरजीत सिंह, हेतराम ने बताया कि इस समय बेमौसम ही बिगड़ रहा है। अभी तक कोई ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है। अब आगामी दो से तीन दिनों तक धान की कढ़ाई रूक जाएगी। वहीं नरमे की फसल भी प्रभावित हुई है। अगर आगामी दिनों में बरसात होगी तो नुकसान अधिक होगा। धान की फसल की कढ़ाई का कार्य तेज गति से चल रहा है।

----------------------------------------

आगामी 18 व 19 को मौसम परिवर्तनशील रहेगा। इस दौरान हल्की बरसात हो सकती है। इसलिए किसान जल्द से जल्द नरमे की चुगाई व धान की कढ़ाई का कार्य कर ले।

एमएल खिचड़,

मौसम वैज्ञानिक

-----------------

29 डिग्री सेल्सियस रहा अधिकतम तापमान 19 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया न्यूनतम तापमान

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.