top menutop menutop menu

पीएमएवाई के 422 आवेदकों में से केवल 42 ही पहुंचे, 19 आवेदनों को किया रिजक्ट

जागरण संवाददाता, फतेहाबाद :

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आमजन को मकान बनाने के लिए लोन दिए जाने का फैसला लिया और इसके लिए आवेदन भी आए। लेकिन आवेदन के दो साल बाद आज तक भी आवेदकों को लोन नहीं मिल पाया। इसलिए बैंक और आवेदनकर्ताओं की आपसी बातचीत के लिए नगर परिषद व नगरपालिका में कैंप का आयोजन किया जा रहा है। बुधवार को नगरपालिका फतेहाबाद में कैंप का आयोजन किया गया। 2017 में शहर के 422 लोगों के आवेदन आए थे जिसे सही माना था। लेकिन आज तक इन्हें लोन नहीं मिला है। यहीं कारण है कि इस कैंप का आयोजन किया गया। इस कैंप में केवल 42 ही लोग आए। ऐसे में 23 लोगों के आवेदन सही मिले जिनके कागजात सही मिले। अन्य 19 लोगों के कागजात सहीं नहीं मिले और उनकी कालोनी भी सही नहीं थी।

-------------------------------------

पीएमएवाई की तरफ से आए कर्मचारी

नगरपरिषद कार्यालय में पीवीएमएवाई की तरफ से मेडम सुषमा रानी, प्रवीण शर्मा व राहुल खुराना पुरे दस्तावेज के साथ मौके पर पहुंचे। वहीं अग्रणी बैंक अधिकारी अनिल मीणा भी विभिन्न बैंकों के अधिकारियों के साथ पहुंच गये। इस दौरान एसबीआई, एक्सिस बैंक, इलाहाबाद बैंक के अधिकारी मौजूद रहे। सबसे पहले पीवीएमएवाई के अधिकारियों ने कागजात की जांच की।

----------------------

सूचना के अभाव में नहीं पहुंचे आवेदक

2017 में नगरपरिषद कार्यालय में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत कैंप लगाया गया था। इस कैंप में करीब दो हजार के करीब फार्म आए थे। फार्म की जांच की तो 422 ही आवेदक रहे जिनको लोन मिल सकता था। लेकिन बैंक द्वारा इन आवेदकों को लोन नहीं दे रहा था। यहीं कारण था कि आवेदकों व बैंक अधिकारियों को आमने सामने लगाने के लिए इस कैंप का आयोजन किया गया। लेकिन विभाग द्वारा पूर्व में कोई सूचना न देने के कारण यह मिशन भी अधूरा रहा गया। 422 आवेदकों में से केवल 42 आवेदक आए। ऐसे में इन लोगों को घर का सपना कैसे पूरा होगा।

------------------------------

वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) शुरू की गई। इसके तहत घोषणा की गई कि इस मिशन को वर्ष 2015 से 2022 के दौरान चलाया जायेगा। वर्ष 2015-2022 को दौरान शहरी क्षेत्र के लिए सबके लिए आवास मिशन को चलाया जाएगा। सभी पात्र परिवारों / लाभार्थियों को आवास प्रदान करने के लिए राज्यों और संघ राज्य क्षेत्रों के माध्यम से कार्यान्वयन अभिकरणों को केंद्रीय सहायता प्रदान की जाएगी। मिशन के तहत घर बनाने के लिए ऋण दिया जाएगा और उस पर भी सब्सिडी दी जाएगी। इसके तहत वर्ष 2017 में करीब 2000 आवेदन हुए लेकिन 422 ही सही माने गये।

------------------------------------------------------

नगरपरिषद कार्यालय में कैंप का आयोजन किया गया था। बुधवार को 42 ही आवेदक आए थे। जिसमें से केवल 23 ही सही माने गये। 19 के कागजात सहीं मिले थे। इस कारण वे लोन के लिए सही नहीं है। बैंक अधिकारियों को आदेश दे दिया गया है कि जल्द से जल्द इन लोगों को रुपये जारी करे ताकि इनके सपनों के घर बन पाये।

अनिल मीणा

एलडीएम फतेहाबाद।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.