ओल्ड फरीदाबाद फ्लाईओवर पर शुरू हुआ आवागमन

ओल्ड फरीदाबाद फ्लाईओवर पर शुरू हुआ आवागमन

भार सहने की क्षमता की जांच (लोड टेस्टिग) होने के बाद ओल्ड फरीदाबाद फ्लाइओवर खोल दिया गया।

JagranFri, 26 Feb 2021 06:21 PM (IST)

जागरण संवाददाता, फरीदाबाद : भार सहने की क्षमता की जांच (लोड टेस्टिग) के लिए बृहस्पतिवार को बंद की गई ओल्ड फरीदाबाद फ्लाईओवर की दिल्ली जाने वाली लेन शुक्रवार शाम पांच बजे आवागमन के लिए खोल दी गई। ओल्ड फरीदाबाद रेलवे अंडरपास भी खोल दिया गया। इससे जाम से जूझ रहे शहरवासियों को राहत मिल गई। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) के अधिकारियों ने बताया कि ओल्ड फरीदाबाद फ्लाईओवर पर लोड टेस्टिग का काम पूरा हो गया है। अब शनिवार को मेवला महाराजपुर अंडरपास की पलवल से दिल्ली वाली लेन पर लोड टेस्टिग होगी, उसे भी बंद किया जाएगा। लोड टेस्टिग के दौरान लोग मेवला महाराजपुर अंडरपास के नीचे से नहीं निकल सकेंगे। उन्हें एनएचपीसी चौक से यू-टर्न लेकर दूसरी तरफ आना होगा। शुक्रवार को भी रेंग-रेंगकर चले वाहन

बृहस्पतिवार दोपहर दो बजे बिना किसी पूर्व सूचना के ओल्ड फरीदाबाद फ्लाईओवर की पलवल से दिल्ली वाली लेन बंद की गई थी। नीचे से फ्लाईओवर क्रास करने पर भी पाबंदी लगाई गई। ओल्ड फरीदाबाद रेलवे अंडरपास भी बंद कर दिया गया। इससे हाईवे पर अजरोंदा तक जाम की स्थिति बन गई थी। एनआइटी क्षेत्र में भी जाम लगा था। दैनिक जागरण ने इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया था। अपनी किरकिरी होने के बाद राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने लोड टेस्टिग के काम में तेजी दिखाई और शुक्रवार शाम तक काम खत्म कर लेन खोल दी गई। इससे पहले दिन में राजमार्ग पर जाम लगा और वाहन धीमी गति से चलते दिखाई दिए। विपरीत दिशा से आने वालों के चालान काटे

कुछ लोग ऐसे भी थे, जिन्हें शुक्रवार को ओवरब्रिज और अंडरपास बंद होने की जानकारी नहीं थी, वहां जाकर पता चला तो लंबा चक्कर काटने से बचने के लिए वे वाहन मोड़कर विपरीत दिशा में चलने लगे। मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने पहले तो उन्हें समझाया कि विपरीत दिशा से ना चलें, इससे हादसा होने की आशंका है। जब वे नहीं माने तो उनके चालान किए गए। ओल्ड फरीदाबाद फ्लाईओवर पर लोड टेस्टिग का काम पूरा हो गया है। वाहन चालकों की परेशानी को देखते हुए यह कार्य जल्दी पूरा कर लिया गया। अब मेवला महाराजपुर अंडरपास की टेस्टिग का काम होगा। उसे भी शनिवार शाम तक पूरा करने की कोशिश होगी।

-धीरज सिंह, परियोजना प्रबंधक, एनएचएआइ

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.