top menutop menutop menu

भारी पड़ी कालाबाजारी, कराई उठक-बैठक

प्रवीन कौशिक, फरीदाबाद : लॉकडाउन में एक ओर जहां जरूरतमंदों की मदद में शासन-प्रशासन, विभिन्न संगठन से लेकर आमजन भी आगे आ रहे हैं, वहीं इससे इतर कुछ ऐसे भी दुकानदार हैं, जो इस संकट की घड़ी में मौके का जमकर फायदा उठा रहे हैं। पीछे से माल न आने और महंगा होने का हवाला देकर ग्राहकों से सामान के मनमाने दाम वसूल रहे हैं। मजबूर ग्राहक चुपचाप बर्दाश्त कर रहा हैं। ऐसे दुकानदारों का जमीर जगाने और उन्हें सबक सिखाने के लिए अब पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया है। पुलिस मुनाफाखोर दुकानदारों की जमकर परेड करा रही है। दुकान के बाहर ही कान पकड़कर उठक-बैठक करा रही है। सोमवार को पल्ला की टीटू कॉलोनी और सेक्टर-3 में स्थानीय पुलिस ने दो दुकानदारों को ऐसे ही सबक सिखाया। हालांकि अभी भी कई दुकानदार हैं, जिन पर ऐसी कार्रवाई की दरकार है।

सादे कपड़ों में सामान लेने जाती है पुलिस

पुलिस आयुक्त केके राव ने सभी थाना व चौकी पुलिस को आदेश दिए हैं कि कालाबाजारी कतई नहीं हो। जहां से शिकायत मिले, वहां पुलिस खुद सादे कपड़ों में जाए और सामान खरीदे। अधिक दाम होने पर दुकानदार को दुकान से बाहर निकालकर सरेआम उठक-बैठक कराए। इससे उसे शर्म आएगी। कंट्रोल रूम में आ रही काफी शिकायतें

लॉकडाउन के दौरान आमजन के लिए प्रशासन के बनाए कंट्रोल रूम के नंबरों पर भी दो हजार से अधिक शिकायतें आ रही हैं। इसमें अधिकतर कालाबाजारी से जुड़ी होती हैं। बहुत से लोग चुपचाप अधिक दाम देकर सामान ले भी जा रहे हैं।

मैं 10 किलोग्राम आटा लेकर आया हूं। दुकानदार ने इसके लिए 350 रुपये लिए हैं, जबकि इससे पहले यह 300 से भी कम का आता था। जब अधिक रेट के बारे में दुकानदार से पूछा, तो उसने कहा पीछे से माल महंगा आ रहा है।

- मनीष, फतेहपुर चंदीला। मुझे गुटका खाने का शौक है। पहले एक पैकेट 125 रुपये का मिलता था। अब इसके दाम 140 रुपये कर दिए हैं। महंगा दिया, पर लेना पड़ा।

-अशोक तिवारी, गांधी कॉलोनी। मैंने कई सामान खरीदा है। बेसन 100 रुपये किलोग्राम दिया, जबकि इससे पहले 80 से भी कम रेट था। चावल से लेकर आटे तक के दाम बढ़ा दिए हैं।

-आशा, रेलवे रोड, एनआइटी। सभी दुकानदारों को दुकान के बाहर रेट लिस्ट लगाने के आदेश दिए गए हैं। थाना व चौकी पुलिस अपने-अपने एरिया में देखेगी कि कौन दुकानदार नियमों का पालन नहीं कर रहा है। अधिक दाम वसूलने वाले दुकानदारों को सबक सिखाने के भी आदेश हैं। कालाबाजारी बिल्कुल बर्दाश्त नहीं होगी।

-केके राव, पुलिस आयुक्त।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.