अब थानों में ही दर्ज होंगे एक लाख तक की साइबर ठगी के मुकदमे

अब थानों में ही दर्ज होंगे एक लाख तक की साइबर ठगी के मुकदमे।

JagranSat, 04 Dec 2021 04:41 PM (IST)
अब थानों में ही दर्ज होंगे एक लाख तक की साइबर ठगी के मुकदमे

हरेंद्र नागर, फरीदाबाद

साइबर ठगी की बढ़ती शिकायतों को देखते हुए पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा ने अहम कदम उठाया है। सभी थानों में साइबर हेल्प डेस्क बनाई जाएंगी। हेल्प डेस्क के लिए पांच पुलिसकर्मियों की नियुक्ति होगी। सब इंस्पेक्टर स्तर के अधिकारी इसके इंचार्ज होंगे। इसके लिए 150 पुलिसकर्मियों की नियुक्ति की गई है। इन पुलिसकर्मियों को साइबर अपराध से निपटने के लिए विशेष प्रशिक्षण भी दिया गया है। साइबर हेल्प डेस्क के लिए सभी थानों में अलग से जगह भी दी जाएगी। साइबर हेल्प डेस्क डेस्क मुकदमे दर्ज करने के साथ ही जांच व साइबर अपराधियों को पकड़ने का काम भी करेगी। साइबर ठगी के मामलों की जांच के लिए डेस्क को कंप्यूटर सहित सभी जरूरी साफ्टवेयर भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

साइबर थाने से कम होगा बोझ

अब तक साइबर ठगी की सभी शिकायतें साइबर थाने में दर्ज होती हैं। साइबर ठगी की शिकायतों की संख्या बहुत अधिक है। रोज 30 से 35 शिकायतें साइबर थाना पुलिस के पास पहुंचती हैं। इन्हें दर्ज करना और जांच करना साइबर थाने के लिए बहुत मुश्किल काम है। रोज शिकायतों के कारण साइबर थाना बोझ से दबा हुआ है। साइबर हेल्प डेस्क बनने के बाद एक लाख तक की धोखाधड़ी की शिकायतें डेस्क के माध्यम से संबंधित थानों में दर्ज होंगी। वहीं उससे ऊपर की धोखाधड़ी की शिकायतें साइबर थाने में दर्ज होगी। सभी डेस्क पर साइबर थाना भी नजर रखेगा और जरूरत पड़ने पर मदद करेगा। साइबर अपराध से संबंधित शिकायतों को लेकर अब लोगों को भटकना नहीं पड़ेगा। वे अपने क्षेत्र के थाने में ही शिकायत दे सकेंगे।

---

साइबर अपराध आज नई चुनौती है। इससे निपटने के लिए साइबर हेल्प डेस्क प्रत्येक थाने में बनाई जा रही है। कई थानों में इन्हें स्थापित कर दिया है। लोग वहां शिकायतें दे सकते हैं। बाकी थानों में भी जल्द ही साइबर हेल्प डेस्क बना दी जाएंगी। इससे साइबर थाने से बोझ कम होगा। साइबर ठगी के मुकदमों के निपटारे में तेजी आएगी।

- विकास कुमार अरोड़ा, पुलिस आयुक्त फरीदाबाद।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.