रहने के लिए बेहतर है अपना शहर

रहने के लिए बेहतर है अपना शहर

राजधानी दिल्ली से सटा और एनसीआर का महत्वपूर्ण हिस्सा अपना फरीदाबाद रहने के लिहाज से बेहतर है।

JagranThu, 04 Mar 2021 09:27 PM (IST)

सुशील भाटिया, फरीदाबाद : राजधानी दिल्ली से सटा और एनसीआर का महत्वपूर्ण हिस्सा अपना शहर रहने के लिहाज से बेहतर आंका गया है। केंद्र सरकार के शहरी एवं आवास मंत्रालय द्वारा बृहस्पतिवार को घोषित ईज आफ लिविग इंडेक्स-2020 में औद्योगिक नगरी को 40वां स्थान मिला है। इसके लिए देश के 111 शहरों का सर्वे किया गया था, जिसमें चार मुख्य बिदुओं जीवन का स्तर, वित्तीय योग्यता, स्थिरता और आमजन की राय शामिल थे। इन्हीं चार बिदुओं का फिर अलग से वर्गीकरण किया गया था, जिनमें शिक्षा, वित्तीय, आवास व आश्रय, मौलिक सुविधाएं, पर्यावरण, बिजली, सुरक्षा, स्वास्थ्य आदि विभिन्न बिदुओं को शामिल किया गया था। इन सबको मिला कर हमारे शहर ने दस लाख से अधिक आबादी वाले शहरों में 51.26 अंक हासिल किए हैं, जबकि नगर निगम को ओवर आल प्रदर्शन में 41.45 अंक मिले। चार प्रमुख बिदुओं पर यह मिली रैंकिग व अंक

बिदु : रैंकिग, अंक

जीवन का स्तर : 40, 45.57

वित्तीय योग्यता : 22, 14.10

स्थिरता : 36, 53.17

आमजन की राय : 30, 75.20 अलग-अलग वर्गीकृत बिदुओं पर रैंकिग व अंक

शिक्षा : 16, 75.94

स्वास्थ्य : 49, 37.61

आवास एवं आश्रय : 36, 73.98

वाश एवं एसडब्ल्यूएम : 30, 29.23

गतिशीलता : 49, 0.22

सुरक्षा : 37, 84.22

मनोरंजन : 11, 17.05

आर्थिक विकास स्तर : 20, 21.27

आर्थिक अवसर : 22, 6.93

पर्यावरण : 41, 35.05

हरियाली और निर्माण : 24, 24.03

ऊर्जा खपत : 43, 53.59

शहर का माहौल : 7, 100 शिक्षा, आवास, सुरक्षा और शहर का माहौल में मिले ज्यादा नंबर

शिक्षा, आवास, सुरक्षा और शहर का माहौल जैसे बिदुओं पर हमारे शहर को ज्यादा नंबर मिले यानी शिक्षा का स्तर बेहतर है। इसी तरह से रहने के लिए आशियाना, सुरक्षा की ²ष्टि से उत्तम और सबसे अच्छा शहर का माहौल रहा। शहर के माहौल में हमें सातवीं रैंक मिली और नंबर 100 में से 100, जबकि पर्यावरण के मामले में हमें काम करने की जरूरत है। हमें खुशी है कि 111 शहरों में हमें 40वां नंबर मिला। कुछ चीजें बेहतर हुई हैं, पर बहुत कुछ ठीक करना बाकी है। शहर के जागरूक व संजीदा लोगों की मदद से जो कमियां हैं, उनको भी दूर करेंगे, ताकि अगली बार जब रैंकिग आए, तो और अच्छी पायदान पर औद्योगिक नगरी का नाम हो।

-यशपाल यादव, जिला उपायुक्त एवं निगमायुक्त हमारे शहर की रैंकिग लगातार सुधर रही है। शहरवासी जागरूक हुए हैं, धीरे-धीरे और बेहतर करेंगे। शहरवासियों को अपने शहर से उसी तरह से प्यार होना चाहिए, जिस तरह से वो अपने घर-आंगन को साफ सुथरा, हराभरा रखते हैं। एक-दूसरे से प्यार करते हैं। अच्छी बात यह है कि हमारे शहर में शांत वातावरण रहता है और सांप्रदायिक सद्भाव, भाईचारे का माहौल है। इस बिदु पर हमें नंबर भी अच्छे मिले हैं। हमारी कोशिश होगी कि अगले वर्ष में और बेहतर करें।

-सुमन बाला, महापौर हमारी इच्छा है कि हम टाप टेन में आएं। हम सबको इसके लिए सहभागिता करनी होगी। अपने शहर को और कैसे बेहतर बनाएं, इस पर गंभीरता से न सिर्फ विचार करना होगा, सुझाव देने होंगे, साथ ही हर बिदु पर योगदान भी देना होगा, तभी हम बेहतर स्थान हासिल करने में कामयाब होंगे।

-राजीव रखेजा, निवासी सेक्टर-9

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.