पहाड़ी आंचल पर 300 साल से बसी तीन ढ़ाणियों को मिली अब खुद की पहचान, मिला ग्राम पंचायत का दर्जा

पहाड़ी आंचल पर 300 साल से बसी तीन ढ़ाणियों को मिली अब खुद की पहचान, मिला ग्राम पंचायत का दर्जा

हरियाणा सरकार के विकास एवं पंचायत विभाग के अपर मुख्य सचिव ने वीरवार

JagranSat, 27 Feb 2021 08:17 AM (IST)

पवन शर्मा, बाढड़ा : हरियाणा सरकार के विकास एवं पंचायत विभाग के अपर मुख्य सचिव ने वीरवार को प्रदेश के कई नए गांवों व ढ़ाणियों को ग्राम पंचायतों का दर्जा देते हुए गजट नोटिफिकेशन पत्र जारी किया है। जिसमें बाढड़ा उपमंडल के पहाड़ी आंचल में तीन ढ़ाणियों को मिलाकर ढाणी गुजरान नाम से झोझू खंड की 47 वीं नई ग्राम पंचायत का दर्जा मिला है। लंबे समय से संघर्षरत ग्रामीणों की मेहनत सफल हुई है।

दादरी जिले के अंतिम छोर पर महेंद्रगढ़ सीमा में बसे गांव नौरंगाबास जाटान के पहाड़ी आंचल पर तीन ढ़ाणियों का इतिहास बहुत पुराना है। मुगलकाल व उसके बाद अंग्रेजी शासन में भी यहां पर गुर्जर समुदाय की रिहायश थी जो पहाड़ी क्षेत्र में ही पशुपालन कर अपनी आजीविका चलाती रही है। यहां से अनेक परिवारों ने राजस्थान व यूपी जाकर गांव तो बसा लिए। लेकिन मौजूदा ढाणी केवल निचले क्षेत्र में रहने वाले गांव से ही पहचानी जाती रही है। जिससे यहां पर विकास योजनाएं भी नहीं लागू हो पाई। मौजूदा समय में पहाड़ी क्षेत्र पर बसी ढाणी राजाश्री, ढाणी तनेजा व ढाणी गुजरान को नौरंगाबास ग्राम पंचायत के अधीन माना जाता रहा है। लेकिन यहां के 350 से अधिक घरों में रहने वाली लगभग दो हजार से अधिक की आबादी में 700 से ज्यादा संख्या में मतदाता भी हैं। गांव के मौजूदा हालात में यहां पर केवल प्राथमिक स्कूल व एक आंगनबाड़ी तो है लेकिन ग्रामीण शेड्यूल की बिजली पानी आपूर्ति, सडकों के मामले में उपेक्षा रही है।

ग्रामीणों की लंबे समय से मांग थी कि तीनों ढाणियों को अलग ग्राम पंचायत का दर्जा मिले तो विकास योजनाएं भी पहुंचें। जिस पर पिछले माह ही विधायक नैना देवी चौटाला ने डिप्टी सीएम के समक्ष यह बात रखी और इसी सत्र में मंजूरी दिलवाने में कामयाब रही। प्रदेश सरकार ने प्रदेश में नई ग्राम पंचायतों के गठन के प्रस्ताव को स्वीकृत दी तो तीनों ढाणियों को संयुक्त कर ढाणी गुजरान नाम से नई ग्राम पंचायत का दर्जा मिल गया है। फैसले की सराहना की

पूर्व सरपंच मनोहर लाल, सूबेदार घीसाराम, पूर्व पंच ग्यारसी लाल, मनीराम, झब्बूराम, हजारी लाल, प्रधान गुलाब सिंह, हरि सिंह, धनसिंह, धुड़ाराम, अशोक, रामनिवास ठेकेदार, विजय कुमार, प्रकाश, रामफल, पप्पू चालक, बिशंबर, सतबीर सिंह, सुमेर सिंह प्रधान, डा. रमेश चंदेला ने प्रदेश सरकार के इस कदम की सराहना की। विधायक नैना देवी चौटाला ने कहा कि तीनों ढाणियों को ग्राम पंचायत का दर्जा मिलने की मांग काफी समय से की जा रही थी। उन्होंने इसे पूरा किया है ताकि ग्रामीण विकास को गति मिले।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.