मांगें पूरी न होने पर मिड डे मील कर्मियों ने जताया रोष, आंदोलन की दी चेतावनी

मिड डे मिल कर्मियों ने बाढड़ा कस्बे की अनाज मंडी में बैठक की। जिसमें मानदेय बढ़ोतरी व अन्य मांगें पूरी करने की सरकार से अपील की गई।

JagranPublish:Mon, 29 Nov 2021 06:35 PM (IST) Updated:Mon, 29 Nov 2021 06:37 PM (IST)
मांगें पूरी न होने पर मिड डे मील कर्मियों ने जताया रोष, आंदोलन की दी चेतावनी
मांगें पूरी न होने पर मिड डे मील कर्मियों ने जताया रोष, आंदोलन की दी चेतावनी

संवाद सहयोगी, बाढड़ा: मिड डे मिल कर्मियों ने बाढड़ा कस्बे की अनाज मंडी में बैठक की। जिसमें मानदेय बढ़ोतरी व अन्य मांगें पूरी करने की सरकार से अपील की गई।

खंड प्रधान निर्मला जेवली की अध्यक्षता में बैठक को संबोधित करते हुए जिला प्रधान बबली मोद ने कहा कि सरकार मिड डे मील वर्कर्स की मांगों को नहीं मानेगी तो सभी वे बड़े आंदोलन करने को मजबूर होंगी।

उन्होंने कहा कि मिड डे मील वर्कर्स को 10 माह के बजाय 12 माह का वेतन दिया जाए और न्यूनतम वेतन 24 हजार लागू हो। हर माह समय पर वेतन मिलना चाहिए। वर्दी भत्ता 12 सौ रुपये मिले। जो वेतन बकाया है उसका तुरंत भुगतान किया जाए। पिछले माह ही हजारों कर्मियों ने प्रदेश के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर से मुलाकात कर एक मांग पत्र सौंपा था। जिसमें वेतन बढ़ोतरी, वर्दी भत्ता बढ़ोतरी, दुर्घटना बीमा योजना के तहत तीन लाख रुपये मुआवजा, मिड डे मील कर्मियों की सेवानिवृत्ति 60 वर्ष से 65 वर्ष करने, स्कूल में बच्चों की संख्या कम होने पर कर्मियों को ना हटाने, बेगारी प्रथा बंद करने की मांगें रखी गई थी। जिस पर मंत्री ने जल्द ही सकारात्मक कदम उठाने का भरोसा दिया था। लेकिन लंबा समय गुजरने के बाद भी प्रदेश सरकार द्वारा मांगों को पूरा नहीं किया गया है।

इस अवसर पर ग्रामीण सफाई कर्मचारी खंड प्रधान सुरेश जेवली, पूर्व प्रधान संजय जीतपुरा, राजेंद्र, सीटू जिला सह संयोजक सुमेर धारणी, उप प्रधान हरिदेव किष्किधा, सचिव सुनीता रामबास, बिमला, राजकला, कौशल्या, अनिता, सुशीला, रोशनी, बबली, मंजू, विद्या देवी, निर्मला, सुमित्रा, सुमन, संतोष, भतेरी, रोशनी, माया, प्रमिला, सुनीता, प्रेम देवी, तारावती, कमलेश इत्यादि भी मौजूद रहे।