सरसों के तोल में चपत लगाने का लगाया आरोप, किसानों ने दिया धरना

20 बीडब्ल्यूएन 25 जेपीजी

संवाद सहयोगी, बहल : भारतीय किसान यूनियन ने खरीद केंद्र पर सरसों तोल में किसानों को लगाई जा रही चपत के खिलाफ रोष प्रकट किया है और किसान के साथ हर स्तर पर हो रही ज्यादतियों के लिए प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। शनिवार को भाकियू खंड प्रधान बिजेन्द्र हरियावास की अध्यक्षता में किसान पंचायत हुई। पंचायत में किसानों ने मंडी में सरसों खरीद में लग रही चपत के खिलाफ रोष प्रकट किया गया। पंचायत को सम्बोधित करते हुए भाकियू युवा प्रदेश प्रधान रवि आजाद ने आरोप लगाया कि मंडी में मार्केट कमेटी और हैफेड की नाक के नीचे किसानों के साथ खुली लूट को छूट दे रखी है। किसान को एक तो मौसम की मार पड़ रही है और दूसरी तोल में रिकार्ड के मुताबिक तोल में चपत लगाई जा रही है। इससे किसान अंदर तक टूट चूका है। किसान का दुखड़ा सुनने को ना सरकार तैयार है और न हीं प्रशासन। किसान की सरसों मंडी प्रशासन को फोकट मानकर पहले से ही झार के नाम पर 2 किलोग्राम तक काटा जा रहा था। जो किसान के साथ अन्याय हैं। मार्केट कमेटी और हैफेड किसानों की इस चपत पर खामोश हैं लेकिन भाकियू सफेद लूट के खिलाफ चुप नहीं बैठेगी। भाकियू की मांग करती है कि नियमानुसार झार लगा कर आढ़ती सरसों खरीदे किसान को कोई दिक्कत नहीं। इसको लेकर किसानों ने जमकर नारेबाजी की। किसान प्रदर्शन में किसान हेल्प डेस्क प्रधान होशियार सिंह चैहड़, मेहताब महला, पूर्व सरपंच जोगेंद्र मोरका, रोहताश सुरपुरा, सुरेन्द्र लाखलान, सुनील पातवान, रामकुमार, जयवीर गरवा, धर्मबीर, रामेश्वर, हुकमाराम आदि उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.