सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण के खिलाफ दिवस

सार्वजनिक क्षेत्र के निजीकरण के खिलाफ दिवस
Publish Date:Wed, 30 Sep 2020 05:27 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, भिवानी: केंद्र और राज्य सरकार की कर्मचारी और मजदूर विरोधी नीतियों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के निजीकरण के खिलाफ राष्ट्रीय विरोध दिवस पर सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के आह्वान पर कच्चे-पक्के कर्मचारी हुडा पार्क में एकत्रित हुए।

डीसी ऑफिस पर पहुंचकर ज्ञापन दिया। विरोध दिवस कार्यक्रम की अध्यक्षता सकसं जिला अध्यक्ष मा. सुखदर्शन सरोहा और संचालन सूरजभान जटासरा की ओर से किया।

मुख्य वक्ता के तौर पर हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ महासचिव मा. जगरोशन और सकसं राज्य ऑडिटर सुभाष कौशिक ने कहा कि हरियाणा सरकार कर्मचारियों के प्रति संवेदनहीन बनी है। 1983 पीटीआइ अपनी बहाली की मांग के लिए लगभग चार महीने से आंदोलनरत हैं। कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के 60 सफाई, ठेका कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया गया है, स्वास्थ्य विभाग के ठेका कर्मी और आइटीआइ के 1410 कर्मियों पर छंटनी की तलवार लटकी है। इस अवसर पर चन्द्रभान सरोहा, राजबीर वर्मा, लोकेश, नरेन्द्र दिनोद, राजेश शर्मा, राजेश लांबा, संजय बहल, रणधीर नूनसर, मनोज भालोठिया, राजेश दुल्हेड़ी, वीरेंद्र घनघस, विकास स्वामी, पुरूषोम गौड़, दीपचन्द, अनिल और बिजेंद उपस्थित थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.