उम्मीदें 2021: झोझू कलां सीएचसी केंद्र को चार माह में मिलेगा नया भवन

उम्मीदें 2021: झोझू कलां सीएचसी केंद्र को चार माह में मिलेगा नया भवन

झोझू कलां बाढड़ा उपमंडल को मौजूदा वर्ष 2021 में चिकित्सा क्षेत्र में जल्द एक बड़

JagranTue, 19 Jan 2021 08:10 AM (IST)

पवन शर्मा, झोझू कलां :

बाढड़ा उपमंडल को मौजूदा वर्ष 2021 में चिकित्सा क्षेत्र में जल्द एक बड़ा तोहफा मिलने वाला है।

50 वर्ष पुराने जीर्णशीर्ण हो चुके झोझू कलां के सीएचसी को जल्द ही नया भवन मिल सकता है। पिछले पांच वर्ष से इसमें कर्मचारी असुरक्षा के बीच रह रहे हैं। सीएचसी में स्टाफ की भी नाममात्र की नियुक्ति होने के साथ-साथ उपकरणों का भी अभाव था। आगामी चार माह में निर्माण कार्य पूरा होने के साथ ही आधुनिक मशीनों व चिकित्सकों की कमी पूरी होने के बाद 60 गांवों के ग्रामीणों को समीप की सभी सुविधाएं उपलब्ध हो सकेंगी। 4 फरवरी 1953 को गांव झोझू कलां में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का निर्माण करवाया गया था। इस केंद्र में पिछले 40 साल से लोगों स्वास्थ्य उपचार का लाभ उठाया है। लेकिन पिछले चार वर्षों से भवन की कमी के कारण न तो आधुनिक चिकित्सक उपकरणों की व्यवस्था की गई है और न ही वरिष्ठ चिकित्सक यहां पर सेवा देने में रूचि ले रहे हैं।

गांव माईकलां, बलकरा, झोझू, संतोखपूरा, मानकावास इत्यादि में आधा दर्जन प्राथमिक व दो दर्जन ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्रों की स्थिति भी इससे बेहतर है।

सीएम के सामने मांग रखी थी पूर्व विधायक ने

छह अप्रैल को भाजपा स्थापना दिवस पर बाढड़ा मंडी में आयोजित रैली में तत्कालीन विधायक सुखविद्र मांढी ने सीएम मनोहर लाल के समक्ष झोझू कलां सीएचसी के पुराने खंडहर भवन के हालात में सुधार करने के लिए नए भवनों के बजट की मांग की थी। जिसके बाद सरकार ने दोनों सीएचसी के नवीनीकरण के लिए लगभग सात करोड़ की राशि स्वीकृत की और वर्ष 2019 में इस भवन के निर्माण के लिए निजी कंपनियों को काम सौंपा गया। इसके बाद सीएचसी झोझू कलां के पुराने भवन को तोड़ कर वहां की भूमि को समतल किया गया तथा नए भवन निर्माण कार्य युद्ध स्तर से शुरु किया गया। चार माह में पूरा होने की उम्मीदें

पिछले 12 माह के समय में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सा विभाग के चिकित्सकों व अन्य कर्मियों के रिहायशी भवन, फ्लैट कार्य पूरा किया जा चुका है। उपचार केंद्र के आपातकालीन भवन, एसएमओ, अधीक्षक, दंत सैल, नेत्र विभाग सहित अन्य विभागों के भवन निर्माण कार्य अंतिम चरण में है जो चार माह में पूरा होने की उम्मीदें हैं।

कई गांवों का मुख्य केंद्र है कस्बा झोझू

झोझूकलां सीएचसी भवन की दयनीय हालत होने के कारण पिछले दस वर्ष से यहां पर 20 फीसद मेडिकल स्टाफ से काम चलाया जा रहा है। यहां पर चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ के लिए रिहायशी भवन पूरी तरह नकारा होने के कारण दूरदराज के चिकित्सक यहां रहने को राजी नहीं हैं। छतों से पानी टपकने के कारण दंत, नेत्र व आपातकालीन समय के लिए आपरेशन उपकरणों को भी यहां नहीं लगाया गया है। इसके कारण प्रसव कार्य, सड़क दुर्घटनाओं के समय आपातकालीन उपचार भी नहीं मिल पा रहा है। यहां सुविधाएं न मिलने के कारण इस क्षेत्र के लोग 20 से 60 किलोमीटर स्थित भिवानी या दादरी स्थित नागरिक अस्पतालों में अपना उपचार करने को मजबूर हैं।

मिलेगी आधुनिक सुविधाएं

नए भवन कार्य के पूरा होने के बाद पांच दर्जन चिकित्सकों व पैरामेडिकल स्टाफ की तैनाती होने के अलावा नई आधुनिक चिकित्सा उपकरणों की सुविधाएं उपलब्ध होंगी। जजपा जिलाध्यक्ष नरेश द्वारका ने बताया कि उपमंडल की सभी लंबित मांगों को लेकर डिप्टी सीएम दुष्यंत सिंह चौटाला व विधायक नैना चौटाला ने सभी विभागों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.