ढाई घंटे हंगामे के बाद टोल पर पहुंचे पंजाब के किसान, जाम लगाया तो प्रशासन ने केएमपी किया टोल फ्री, धरना शुरू

ढाई घंटे हंगामे के बाद टोल पर पहुंचे पंजाब के किसान, जाम लगाया तो प्रशासन ने केएमपी किया टोल फ्री, धरना शुरू

जागरण संवाददाता बहादुरगढ़ कुंडली मानेसर पलवल (केएमपी) एक्सप्रेस वे का मांडौठी टोल प्लाज

JagranFri, 23 Apr 2021 12:55 AM (IST)

जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़ : कुंडली मानेसर पलवल (केएमपी) एक्सप्रेस वे का मांडौठी टोल प्लाजा एक बार आंदोलनकारी किसानों ने फ्री करवा दिया। करीब दो घंटे तक चले हंगामे के साथ बाईपास की ऑटो मार्केट से भारी संख्या में पंजाब के आंदोलनकारियों के मौके पर पहुंचते ही केएमपी को जाम कर दिया गया। ऐसे में मामला बढ़ता देख कुछ देर बाद भारी संख्या में पुलिस व सुरक्षा बलों की मौजूदगी के बाद भी प्रशासन को टोल फ्री करना पड़ा। इस दौरान मय्यड़ जाते समय किसान नेता राकेश टिकैत भी टोल प्लाजा पर चल रहे प्रदर्शन में कुछ देर के लिए रुके और कहा कि केएमपी को टोल फ्री कराकर दलाल खाप ने अच्छा काम किया है। यह सरकार रोला-रूक्का करने पर ही मानती है। हम सूखी गिरफ्तारियां कहीं नहीं देंगे। अब आर-पार की लड़ाई होगी। इसके लिए उन्होंने आंदोलनकारियों को तैयार रहने को कहा। दलाल खाप ने प्रशासन के समक्ष रखी दो मांगे, दस मिनट का समय लेकर आधा घंटे बाद भी बात नहीं बनी तो किसानों ने लगाया जाम

आंदोलनकारी किसानों ने दलाल खाप के नेतृत्व में केएमपी को टोल फ्री कराने के लिए वीरवार का दिन निर्धारित कर रखा था। करीब 12 बजे दलाल खाप के प्रधान भूप सिंह के नेतृत्व में भारी संख्या में आंदोलनकारी मौके पर पहुंचे। यहां पर पहुंचकर प्रशासन के समक्ष मांग रखी कि टोल को फ्री किया जाए और कुछ दिन पहले मांडौठी टोल प्लाजा को फ्री कराने के दौरान गुरनाम चढूनी समेत 150 से ज्यादा किसानों पर दर्ज किए गए मुकदमें वापस लिए जाएं। इस पर पहले तो प्रशासन की तरफ से मौजूद एसडीएम हितेंद्र कुमार, डीएसपी राहुल देव, डीएसपी पवन कुमार आदि अधिकारियों ने उन्हें समझाया कि केएमपी के अन्य प्लाजा पर टोल शुल्क वसूला जा रहा है। ऐसे में इस प्लाजा को भी फ्री न किया जाए। मगर आंदोलनकारी मानने को तैयार नहीं हुए। इस पर एसडीएम ने दस मिनट का समय लिया, मगर आधा घंटे तक प्रशासन की ओर से आंदोलनकारियों के साथ कोई बातचीत नहीं की गई। इस बीच दलाल खाप की ओर से बहादुरगढ़ बाईपास की ऑटो मार्केट में चल रही भारतीय किसान यूनियन एकता उगराहा की सभा में आंदोलनकारियों को केएमपी टोल पर पहुंचने का संदेशा भेज दिया था। जैसे ही यहां पर इस सभा से पंजाब के आंदोलनकारी पहुंचे तो केएमपी को जाम कर दिया गया। आंदोलनकारी धूप में ही केएमपी पर बैठ गए। ट्रैक्टर-ट्रालियों को टेढ़ा कर सड़क पर अवरोधक बना दिए और सड़क पर ही धरना शुरू कर दिया। करीब ढाई घंटे तक चली जद्दोजहद के बाद प्रशासन को आखिरकार आंदोलनकारियों की बात माननी पड़ी और केएमपी को टोल फ्री कर दिया। इससे पहले करीब एक घंटे तक वाहनों को पुलिस ने अपनी कड़ी सुरक्षा में टोल बैरियर पार करवाया। इस बीच अप-डाउन के एक-एक गेट से टोल संग्रह भी चलता रहा। किसान नेताओं और प्रशासनिक अधिकारियों के बीच कई बार बातचीत भी हुई, जो बेनतीजा होती रही। प्रशासन पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप

केएमपी को जाम करके आंदोलनकारियों ने सभा शुरू कर दी। यहां पर दलाल खाप के प्रधान भूप सिंह, बुल्लड़ पहलवान, जयकरण मांडोठी, बल्लू प्रधान व महेंद्र सिंह दलाल ने बताया कि हमने 18 अप्रैल को भी केएमपी को टोल फ्री करने की कोशिश की थी लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों के कारण हमने 22 अप्रैल को टोल फ्री करने का अल्टीमेटम दिया था। हमने प्रशासन को 18 अप्रैल की याद भी दिलाई लेकिन प्रशासन अपने वादे से मुकर गया। ऐसे में केएमपी जाम करना पड़ा, तब जाकर टोल फ्री हुआ। इस मौके पर ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के प्रदेश सचिव जयकरण मांडोठी, दयानंद चेयरमैन, कपूर सिंह प्रधान, जय किशन, महेंद्र सिंह, हजारीलाल, किसान सभा के प्रीत सिंह, जसवीर सिंह भट्टी, सुमन हुड्डा, भारतीय किसान यूनियन के चिटू प्रधान छारा भी मौजूद थे।

किसानों की संख्या ज्यादा हो गई थी। हमने उन्हें समझाने का प्रयास किया लेकिन वे नहीं माने। विवाद न हो इसलिए टोल को फ्री करवा दिया है।

----हितेंद्र कुमार, एसडीएम, बहादुरगढ़।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.