आंदोलन में गांधी मूर्त पर पंजाब के किसानों का एतराज, तोड़फोड़ की तो हरियाणा के किसानों ने मूर्ति को दिला दी छोटूराम की सूरत

आंदोलन में गांधी मूर्त पर पंजाब के किसानों का एतराज, तोड़फोड़ की तो हरियाणा के किसानों ने मूर्ति को दिला दी छोटूराम की सूरत

अब हरियाणा के किसानों की निगरानी में यहां पर मूर्ति का काम चल रहा है

Publish Date:Wed, 20 Jan 2021 06:55 AM (IST) Author: Jagran

अब हरियाणा के किसानों की निगरानी में यहां पर मूर्ति का काम चल रहा है फोटो-32 व 33: जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़ :

टीकरी बॉर्डर पर किसान आंदोलन के बीच गांधीजी की भूमिका दर्शाने पश्चिमी बंगाल से आए कलाकार को पंजाब के किसानों का विरोध झेलना पड़ा है। यहां गांधीजी की मूर्ति बनाने पर कुछ किसानों ने न केवल एतराज किया बल्कि निर्माणाधीन मूर्ति में तोड़फोड़ भी की। बाद में हरियाणा के किसान बीच में आए और मूर्ति को गांधी की जगह दीनबंधु छोटूराम की सूरत दिलवा दी। अब हरियाणा के किसानों की निगरानी में यहां पर मूर्ति का काम चल रहा है।

दरअसल, पिछले चार दिनों से पश्चिम बंगाल के कलाकार दीबांजन राय और उनकी टीम के सदस्य सेक्टर-9 मोड़ पर आंदोलन के हालातों को गांधीजी की भूमिका से जोड़ने के लिए मूर्ति बना रहे थे। इसमें दर्शाया जाना था कि गांधीजी के एक कंधे पर किसान का हल, दूसरे कंधे पर किसान का शव है और वे पथरीली राह पर चल रहे हैं। इसके जरिये यह दिखाने का प्रयास था कि अगर गांधीजी आज होते तो आंदोलन के बीच उनकी क्या भूमिका होती। मगर जैसे ही पंजाब के कुछ किसानों को इसका पता लगा तो वे यहां पहुंच गए। उन्होंने कलाकार पर आरोप लगाया कि किसके कहने से आए हो और तुम्हारा मकसद आंदोलन को तोड़ना तो नहीं। यह सुनकर कलाकार भी हैरान रह गए। इतना ही नहीं किसानों ने निर्माणाधीन मूर्ति की गर्दन भी तोड़ दी। यह देख वहां मौजूद हरियाणा के किसानों ने स्थिति को संभाला। इस पूरे प्रकरण के बाद कलाकार हैरान रह गए। वे वापस लौटना चाहते थे। मगर हरियाणा के किसानों के आग्रह पर मूर्ति को चौ. छोटूराम की सूरत देकर पूरा करने के लिए रुक गए। कलाकार का कहना है कि वे तो किसानों के हालात दर्शाने आए थे। लेकिन जिस तरह का व्यवहार हुआ, वह अजीब था। वे यहां कोई विवाद नहीं चाहते। इधर, हरियाणा के किसान अपनी निगरानी में मूर्ति पूरी करवा रहे हैं। इन किसानों का कहना कि विवाद न हो, इसीलिए मूर्ति को बदलवाया गया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.