कोरोना वैक्सीनेशन का उत्सव सा आगाज

कोरोना वैक्सीनेशन का उत्सव सा आगाज

सिविल अस्पताल में सबसे पहले वे योद्धा वैक्सीनेशन के अगुवा बने

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 07:40 AM (IST) Author: Jagran

सिविल अस्पताल में सबसे पहले वे योद्धा वैक्सीनेशन के अगुवा बने फोटो-1 से लेकर 14 तक: जागरण संवाददाता, बहादुरगढ़ :

कोरोना काल से निकलकर इंसानी जीवन ने अब वैक्सीनेशन दौर की तरफ कदम बढ़ा दिए हैं। शनिवार को इस दौर का उत्सव सा आगाज हुआ। बहादुरगढ़ के सिविल अस्पताल में सबसे पहले वे योद्धा वैक्सीनेशन के अगुवा बने, जो इस महामारी से जंग में भी आगे थे। पहला टीका आंगनबाड़ी वर्कर को लगा, जो कोरोना काल की शुरूआत में घर-घर सर्वे में निकली। दूसरा टीका डाक्टर को लगा। इसके बाद जिनको भी कोरोना से बचाव की वैक्सीन लगी, वे सभी कोरोना से लड़ने वालों में शुमार रहे हैं। अब धीरे-धीरे यह मुहिम तेज होगी।

बहादुरगढ़ से कोरोना वैक्सीनेशन की शुरूआत पर जिला उपायुक्त जितेंद्र दहिया पहुंचे थे। वैक्सीनेशन एरिया को गुब्बारों से सजाया गया था। उपायुक्त ने पहले रिबन काटा। फिर उनकी और सीएमओ डा. संजय दहिया व पीएमओ डा. प्रदीप शर्मा की मौजूदगी में पहला टीका लगा। उपायुक्त ने पहला टीका लगवाने वाली आंगनबाड़ी वर्कर नीतू को फूल भेंटकर वैक्सीनेशन की अगुवा बनने की शुभकामनाएं दी। नीतू के बाद ब्रह्मशक्ति अस्पताल के डा. संजीव काजला को कोरोना से टीका लगा। उन्हें भी उपायुक्त ने प्रोत्साहित किया। इनको नहीं लगेगी कोरोना वैक्सीन

-18 वर्ष से कम उम्र वालों को

-गर्भवती महिलाओं को

-कोरोना पॉजिटिव मरीजों को

-किसी भी तरह के बुखार पीड़ित व्यक्ति को स्वास्थ्य सुरक्षा में जिला बनेगा भागीदार : उपायुक्त

उपायुक्त ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान भी झज्जर की जनता ने पूरे धैर्य के साथ सरकार के निर्देशों की अनुपालना की। अब वैक्सीनेशन प्रक्रिया में भी झज्जर जिला अपनी संयमित भागीदारी निभाएगा। सिविल सर्जन डा. संजय दहिया ने बताया कि जिले में दो स्वास्थ्य संस्थानों में वैक्सीनेशन की शुरूआत की गई। प्रक्रिया को सुचारू रूप से चलाने के लिए जिला प्रशासन के सहयोग से सभी तैयारियां पूरी हैं। स्टाफ को प्रशिक्षण दिया जा चुका है। प्रतिदिन प्रति संस्थान में 100 लोगों को टीकाकरण करने का लक्ष्य रखा गया है। झज्जर जिले में प्रारंभिक चरण में 7990 डोज पहुंची हैं। हर सप्ताह चलेंगे वैक्सीनेशन के चार सेशन :

उप सिविल सर्जन डा. संजीव मलिक ने बताया कि हमें को-विन सॉफ्टवेयर से सूची मिली है। सूची में जो भी शामिल हैं, उन्हें ऐप से मैसेज भेजा गया। प्रत्येक सप्ताह कोरोना वैक्सीनेशन के चार सेशन जिले में लगाए जाएंगे। इसमें डाक्टर, एएनएम, स्वास्थ्यकर्मी, आंगनबाड़ी वर्कर व हेल्पर को टीका लगाया जाएगा। अग्रणी कार्य करने वाले योद्धाओं पुलिस, होमगार्ड, सफाई कर्मचारी व अन्य को अगले राउंड में प्रतिरक्षित किया जाएगा। 50 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्ति को भी चरणबद्ध तरीके से प्रतिरक्षित किया जाएगा। वैक्सीनेशन की शुरूआत पर एसएमओ डा. सुमन कोहली, डा. सुनीता चौधरी, डा. संदीप गुलिया, डा. देवेंद्र मेधा, डा. सुंदरम, नोडल अधिकारी कोविड बहादुरगढ, डा. तरुण, डा. मोहित मौजूद रहे। इस तरह चली प्रक्रिया :

सिविल अस्पताल के द्वितीय तल पर वैक्सीनेशन एरिया है। यहां पर सबसे पहले सैनिटाइजेशन और स्क्रीनिग होगी। फिर पहले काउंटर पर वेरिफिकेशन होगी। अंदर एंट्री के बाद वेटिग एरिया है। वहां पर दोबारा वेरिफिकेशन होगी। इसके बाद वैक्सीन रूम है और उससे आगे रेस्ट रूम है। वैक्सीन लगने के बाद सभी की पल्स रेट और ब्लड प्रेशर चेक किया गया। 30 मिनट तक इंतजार कराया। फिर दोबारा से पल्स रेट व ब्लड प्रेशर चेक किया। इसके बाद सभी को घर भेज दिया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.