सिटी के बाजारों में घुसने लगे बड़े वाहन, जाम, लोग परेशान

सिटी के बाजारों में घुसने लगे बड़े वाहन, जाम, लोग परेशान

सिटी सड़कों की बजाय अब बाजारों में भी जाम लगना आम बात हो गई। यह हालात एक बाजार के नहीं बल्कि सभी बाजारों के बने हैं।

Publish Date:Fri, 15 Jan 2021 06:05 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, अंबाल शहर : सिटी सड़कों की बजाय अब बाजारों में भी जाम लगना आम बात हो गई। यह हालात एक बाजार के नहीं, बल्कि सभी बाजारों के बने हैं। वीरवार को भी ऐसा कुछ देखने को मिला। बेटी-बचाओ, बेटी पढ़ाओ चौक की तरफ से प्रेम मंदिर की तरफ जाने वाली और कपड़ा मार्केट व दाल बाजारों में जाम के हालात मिले। इन हालातों ने बाजारों में रहने वाले लोगों के लिए परेशानी खड़ी कर दी है। हालात यह हो गए वाहन लेकर निकलना तो दूर पैदल भी निकला नहीं जा सकता। वहीं रही कसर को बाजारों में आड़े-तिरछे खड़े वाहनों ने पूरी कर कर दी है।

-------

बाजारों में आ रही ट्रैक्टर-ट्रॉली

बता दें अंबाला शहर के बाजार सालों पुराने हैं इसलिए ज्यादातर लोग यहीं पर खरीदारी के लिए आते हैं जिसके चलते भीड़भाड़ रहती है। यहां सड़क के दोनों किनारे दुकानें सजी हैं। ऐसी स्थिति में केवल छोटे वाहन की आ-जा सकते हैं। मगर वीरवार को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ चौक से अनन्त प्रेम मंदिर की तरफ आने वाले रास्ते पर ट्रैक्टर-ट्रॉली के आने से गुजरने के लिए रास्ता नहीं बचा तो ऐसे में जाम लग गया। यह हालात करीब 20 मिनट तक बने रहे। हालांकि दो पहिया चालक जैसे-तैसे इधर-उधर से निकल गए, लेकिन चौपहिया वाहन जैसे कार वहीं पर फंसी रही। काफी माथापच्ची के बाद ट्रैक्टर चालक ने ट्रॉली बाजार से निकाली तब जाम खुला।

------

सड़क के बीच में रेहड़ी संचालकों का कब्जा

कपड़ा मार्केट को देखकर लगता है यहां सुधार होने वाला नहीं हैं। वीरवार को भी वही हालात मिले जैसे आम दिनों में होते हैं। हालांकि आम दिनों की अपेक्षा ठंड के चलते कुछ भीड़ कम थी। मगर अग्रसेन चौक से कपड़ा मार्केट की तरफ आने वाले रोड पर डिवाइडरों के साथ बीच सड़क में ही रेहड़ी संचालकों ने कब्जा कर लिया है। यही वजह अब जाम का कारण बन रही है। हैरत की बात तो यह कि इसी एरिया में भी पुलिस व होमगार्ड के कर्मचारी तैनात व घूमते रहते हैं। मगर कोई भी इन्हें हटवाने की जहमत नहीं उठाता है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.