किसान आंदोलन पर अफसरों के फूले हाथ-पांव, बार्डर पर पहुंचे डीसी-एसपी

किसान आंदोलन पर अफसरों के फूले हाथ-पांव, बार्डर पर पहुंचे डीसी-एसपी

अन्य हेडिंग किसान आंदोलन पर प्रशासन चौकस वाहनों का रूट बदला फोटो - 21 -भाकियू न

Publish Date:Wed, 25 Nov 2020 08:00 PM (IST) Author: Jagran

अन्य हेडिंग : किसान आंदोलन पर प्रशासन चौकस, वाहनों का रूट बदला फोटो - 21

-भाकियू ने बदली रणनीति, शंभू बार्डर की बजाए अब मोहड़ा मंडी में जुटेंगे किसान

-आंदोलन को दबाने के लिए पुलिस ने किसान नेताओं को लिया हिरासत में

जागरण संवाददाता, अंबाला शहर :

तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को लेकर अफसरों के हाथ-पांव फूल गए हैं। मंगलवार को डीसी और एसपी शंभू बार्डर और सदौपुर बार्डर पर पहुंचे। मौके का जायजा लिया गया। जहां किसानों के आंदोलन से हालात न बिगड़े इसके चलते रूट प्लान बनाया गया है ताकि किसानों को रोके जाने व धरना देने की स्थिति में जाम न लगे।

बता दें कि तीन कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब-हरियाणा के किसानों ने शंभू बार्डर पर इकट्ठा होने का प्लान बनाया था। अब शंभू बार्डर पर पंजाब के ही किसान एकजुट होंगे। प्रदेश के किसानों ने रणनीति में बदलाव कर दिया है। जो अब मोहड़ा अनाज मंडी के पास इकट्ठा होंगे। हालांकि आंदोलन को दबाने के लिए पुलिस की तरफ से कुछ किसान नेताओं को भी हिरासत में लिया गया है। भारतीय किसान यूनियन अंबाला ब्लाक वन के प्रधान सुखविद्र सिह जलबेहड़ा ने एलान किया था कि 25 नवंबर को शंभू बार्डर पर किसान इकट्ठा होकर दिल्ली के लिए कूच करेंगे।

वाट्सएप पर वीडियो वायरल

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने वाट्सएप पर वीडियो वायरल कर दिया है। इस वीडियो में किसानों को पंजाब के शंभू बार्डर की बजाए मोहड़ा मंडी पर इकट्ठा होने का संदेश दिया है। किसानों ने अपनी रणनीति में आंदोलन से ठीक एक दिन पहले बदलाव कर प्रशासन को संकट में डाल दिया है। किसान नेताओं को लिया हिरासत में

किसान आंदोलन बड़े स्तर पर होने से संभाल पाने में मुश्किल हो सकता है। ऐसे में पुलिस प्रशासन ने आंदोलन को दबाने के इरादे से एक दिन पहले तड़के ही किसान नेताओं को उठा लिया। इसमें भाकियू के उप प्रधान गुलाब सिंह भी शामिल हैं। इसके अलावा नारायणगढ़ क्षेत्र से भी किसान नेताओं को हिरासत में लिया गया है। किसान नेताओं के मोबाइल फोन बंद

जैसे ही पुलिस ने किसान नेताओं को उठाने का काम शुरू किया। वे सतर्क हो गए। पुलिस को गच्चा देने के लिए अपने घरों से निकले और मोबाइल फोन बंद कर लिया। सूत्रों की मानें तो कुछ नेता दिल्ली के लिए निकल भी चुके हैं।

पंजाब बार्डर पर अधिकारियों ने किया निरीक्षण

भारतीय किसान यूनियन की 25 और 26 नवंबर को दिल्ली कूच को लेकर होने वाले प्रदर्शन को देखते हुए डीसी अशोक कुमार शर्मा और एसपी राजेश कालिया ने अंबाला-दिल्ली मार्ग पर सद्दोपुर बैरियर व अंबाला-लुधियाना मार्ग पर शंभू बैरियर पर जाकर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। डीसी ने नाकों पर सफाई व्यवस्था, बिजली, पेयजल, शौचालय, फायर ब्रिगेड, सीमेंटेड बैरिकेड, बसों व एंबुलेंस की व्यवस्था के निर्देश दिए।

पुलिस की अतिरिक्त व्यवस्था

डीसी ने आपात स्थिति होने पर पुलिस को अतिरिक्त व्यवस्था करने के लिए कहा है। सद्दोपुर बैरियर की तमाम व्यवस्थाओं को लेकर डीटीओ इंचार्ज होंगी, जबकि शम्भू बैरियर पर एसडीएम शहर इंचार्ज होंगे। किसी भी तरह की अनावश्यक मूवमेंट नहीं होने दी जाएगी। एसपी राजेश कालिया ने कहा कि दोनों नाकों पर पुलिस तैनात रहेगी। वाटर कैनन और गाडि़यों की व्यवस्था भी पूरी रहेगी। आंदोलन के दौरान रूट प्लान

एसपी ने बताया कि भाकियू के प्रदर्शन को देखते हुए लोगों को आवागमन में दिक्कत न हो, इसके लिये रूट प्लान तैयार किया है। चंडीगढ़ जाने वाले लोग अंबाला शहर से नारायणगढ़ रोड से हंडेसरा, बरवाला होते हुए चंडीगढ़ जा सकते हैं। इसी प्रकार सुल्तानपुर चौक से जड़ौत, बरवाला व पंचकूला जा सकते हैं। पंजाब जाने के लिए देवी नगर से हिसार रोड पुल के माध्यम से जमीतगढ़ मोड़ से होते हुए घन्नौर रास्ते से पटियाला जा सकते हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.