स्टील घोटाले की निष्पक्ष जांच के लिए रेल मंत्री को लिखेंगे चिट्ठी: कटारिया

जागरण संवाददाता, अंबाला शहर

जम्मू से ऊधमपुर, ऊधमपुर से कटरा व गाजियाबाद से मुरादाबाद सहित कई सेक्शन में विद्युतीकरण के दौरान इस्तेमाल स्ट्रेचर्स निर्धारित मानक से 13 से 19 फीसद कम वजन स्टील लगाकर रेलवे द्वारा किए गए घोटाले में अब सांसद रतन लाल कटारिया रेल मंत्री को पत्र लिखकर इसकी निष्पक्ष जांच की सिफारिश करेंगे। दैनिक जागरण ने स्टील घोटाले से पर्दा उठाया था। सांसद रतन लाल कटारिया ने साप्ताहिक साक्षात्कार के दौरान दैनिक जागरण संवाददाता को यह बात कही। कटारिया ने स्पष्ट कर दिया कि उनके लोकसभा क्षेत्र में किसी भी घोटाले को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। फिर चाहे वह रेलवे का हो या किसी भी अन्य विभाग का। सांसद ने कहा कि वह लगातार 38 साल से चुनाव लड़ रहे हैं। इतनी तो कई विधायकों की प्रदेश में उम्र भी नहीं है। इसीलिए जनहित के किसी भी मुद्दे पर वह चुप नहीं रहेंगे।

दैनिक जागरण संवाददाता के सवालों को जवाब सांसद रतन लाल कटारिया ने कुछ तरह से दिया:-

---------------

प्रश्न: सर, जम्मू से उधमपुर, उधमपुर से कटरा व गाजियाबाद से मुरादाबाद के तीन अलग सेक्शन में स्ट्रक्चर्स में स्टील का मानक वजन 13 से 15 फीसद कम पाया गया था। विजिलेंस की जांच के बीच में ही सीबीआइ ने मलवाल (जम्मू) के अस्थाई डिपो में रखे स्ट्रक्चर्स का वजन कराया, जो कि कम पाया गया। फिर भी घोटाले को दबा दिया गया?

उत्तर:- इस बारे में मैं रेलवे के अफसरों से तो बात करूंगा ही साथ ही साथ रेल मंत्री को भी निष्पक्ष जांच व कार्रवाई की सिफारिश की जाएगी।

प्रश्न:- स्टील घोटाले के तार सीधे तौर पर अंबाला से जुड़े हुए हैं, क्योंकि चीफ प्रोजेक्ट डायरेक्ट कार्यालय अंबाला में ही हैं ऐसे में आपकी भूमिका सबसे अहम रहेगी?

उत्तर: देखिए, मेरे लोकसभा क्षेत्र में मैं किसी भी प्रकार के घोटाले को बर्दाश्त नहीं करूंगा, चाहे वह रेलवे का हो या किसी भी विभाग का।

प्रश्न:- अंबाला लोकसभा क्षेत्र से सांसद चुने जाने के बाद से अब तक आपके कार्यकाल की क्या सबसे बड़ी उपलब्धि आप मानते हैं?

उत्तर : पिछले चार साल में मैंने अपने लोकसभा क्षेत्र में 3136 करोड़ की लागत से फोरलेन सड़कों का जाल बिछवाया। यह सबसे बड़ी उपलब्धि रही। इनमें अंबाला से कैथल, अंबाला से यमुनानगर, पंचकूला से यमुनानगर, सूरजपुर से बद्दी, यमुनानगर से पौंटासाहिब व लाडवा से यमुनानगर इत्यादि फोरलेन शामिल हैं।

प्रश्न: विकास कार्यों को लेकर भेदभाव के आरोप आप पर लग चुके हैं, आपका क्या कहना है?

उत्तर: देखिए, आरोप तो हर किसी पर लगते रहते हैं। मेरे पांच साल के कार्यकाल में मुझे विकास कार्यों के लिए 25 करोड़ रुपये मिलने हैं। लेकिन अभी तक मैं 31 करोड़ रुपये के विकास कार्यों की घोषणा कर चुका हूं। न केवल घोषणाएं बल्कि इन पर अभी तक 20 करोड़ से ज्यादा की राशि भी खर्च हो चुकी हैं। इससे ज्यादा विकास के किसी को कोई प्रमाण नहीं दिए जा सकते।

प्रश्न: सर, पंचकूला से यमुनानगर रेलवे लाइन की मांग बरसों से चल रही है। बजट में भी यह पास हो चुका है लेकिन यह प्रोजेक्ट आजतक कागजों से बाहर नहीं निकल पाया।

उत्तर: पंचकूला, रायपुर रानी होते हुए यमुनानगर लाइन की चार दशक पुरानी मांग थी। इसे मैंने ही रेल बजट में पास करवाया है। लेकिन इसके लिए जो जमीन अधिग्रहण होनी है उसका पूरा पैसा प्रदेश सरकार खर्च करे, केंद्र का यह कहना है। इसके बाद जो खर्च होगा उसे केंद्र व प्रदेश सरकार 50-50 प्रतिशत हिस्सेदार रहेगी। लेकिन हरियाणा सरकार जमीन पर इतना पैसा नहीं खर्च सकती। ऐसे में केंद्र और रेलवे की बैठक के बाद ही इसका कोई विकल्प निकल सकेगा।

प्रश्न: अपने कार्यकाल के दौरान आपने रोजगार के लिए अंबाला लोकसभा में क्या किया?

उत्तर: नारायणगढ़ में होर्टिकल्चर यूनिवर्सिटी के लिए 50 करोड़ रुपये आ चुके हैं। इससे रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

प्रश्न: रेलवे ने क्लाक रूम को किराया 15 रुपये से बढ़ाकर सीधे 100 रुपये कर दिया है, लेकिन अभी तक इस पर किसी ने कोई आपत्ति नहीं जताई

उत्तर: कोई भी जनहित का मुद्दा हो उसे सीएम से पीएम तक और अधिकारी से मंत्री तक पहुंचने का काम मैंने हमेशा किया है। 20 सितंबर को रेल अधिकारियों के साथ मेरी बैठक है। उस बैठक में इस मुद्दे को रखा जाएगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.