top menutop menutop menu

आंधी में झोपड़ी पर गिरा पेड़, दो घायल

संवाद सहयोगी, नारायणगढ़ : शनिवार सुबह तेज हवा चलनी शुरू हुई और देखते ही देखते तेज हवा आधी में बदल गई। आंधी से क्षेत्र में बिजली के करीब एक दर्जन पोल टूटकर सड़कों पर गिर गए। सफेदे के पेड़ से दबकर एक 28 वर्षीय मजदूर राम सिंह सहित 12 साल का बच्चा बीरू बुरी तरह घायल हो गया। इसमें रामसिंह के रीढ़ की हड्डी में फ्रैक्चर होने पर अंबाला रेफर कर दिया गया, जबकि बीरू का इलाज चल रहा है। आंधी आने से पोल और पेड़ गिरने से क्षेत्र की बिजली सप्लाई ठप हो गई।

एनएच-72 गांव सैनमाजरा के पास झुग्गी-झोपड़ी में प्रवासी मजदूर रह रहे हैं। वहीं पर सड़क के किनारे बड़े-बड़े सफेदे के पेड़ है। सुबह करीब साढ़े तीन बजे तूफान व मूसलाधार बारिश होने पर सफेदे का पेड़ झोपड़ी पर गिर गया, इसमें रामसिंह व बीरू दब गया। आसपास मौजूद लोगों की मदद से दबे हुए प्रवासी मजदूरों के परिवार के 9 लोगों को बाहर निकाला गया। दोनों घायलों को सिविल अस्पताल पहुंचाया। डाक्टर ने बताया की बीरू की रीड़ की हड्डी में फ्रैक्चर होने पर अंबाला रेफर किया गया है। बच्चे के पैर में फ्रैक्चर होने पर उसका उपचार चल रहा है।

कार व मकान पर गिरा पेड़

कार खरीदने और बेचने का काम करने वाले कर्मबीर ने बताया कि उसकी दुकान राजमार्ग-72 पर है। शुक्रवार को उसने आल्टो कार को पेड़ के पास खड़ी की थी। सुबह तूफान पर एक भारी सफेदे का पेड़ उसकी कार पर गिर गया। मिलन पैलेस के मालिक रोजी सलुजा ने बताया कि उनके मकान के पास सड़क किनारे बहुत पुराने सफेदे के पेड़ हैं। सुबह के समय पेड़ उनके मकान पर गिर गया। मकान पर गिरा पेड़

गांव अहमदपुर में तेज हवा से सफेदे का पेड़ बिजली के खंभे पर गिरा, जिससे बड़ी लाइन एनएच-72 के सड़क किनारे व गांव की तरफ जाने वाले बिजली की लाइनें खंभे सहित गिर गई। गांव के सुखदेवसिंह के घर पर सफेदा का पेड़ गिरने से मकान क्षतिग्रस्त हो गया। पेड़ गिरने से बरोली का रास्ता बंद

गांव बरोली रोड पर सड़क किनारे पुराने सफेदे के पेड़ गिरने से तीन जगह सड़क पर गिर गई। इससे गांव आने-जाने वालों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा। पेड़ गिरने से बिजली की तारे भी क्षतिग्रस्त हुईं और विद्युत आपूर्ति भी ठप हो गइ। बिजली विभाग के एसडीओ गुरबाज सिंह ने बताया कि सुबह के समय आये तूफान से सैनमाजरा, अहमदपुर,बडागांव, मिलक, बरोली में बिजली के खंभे क्षतिग्रस्त हो गए। पांच फीडर नगोली, मंडलाए, कुराली, मामनपुर, मिजार्रपुर के खंभे गिरने पर फीडर बंद पड़े हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.