top menutop menutop menu

Gujarat: सूरत के चौराहों पर अब थर्मल गन व डंडा लेकर खड़े होंगे गुरुजी

राज्य ब्यूरो, अहमदाबाद। Coronavirus: गुजरात के सूरत शहर में कोरोना के बढ़ते मामलों पर काबू पाने के लिए शिक्षकों की भी ड्यूटी लगाई है। उन्हें चौराहों पर थर्मल गन व डंडा लेकर खड़ा रहना होगा। जिला पंचायत शिक्षण समिति के इस आदेश से शिक्षक नाराज हैं। कांग्रेस ने इसे शिक्षकों का अपमान बताया है। अहमदाबाद व सूरत में कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। दोनों शहरों में कोरोना संक्रमितों की संख्या क्रमश: 23,599 व 8,642 हो चुकी है। सरकार कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है। इसी क्रम में सूरत जिला पंचायत की शिक्षण समिति ने एक आदेश जारी कर ओलपाड व मांगरोल क्षेत्रों में कोरोना की रोकथाम के लिए शिक्षकों की ड्यूटी लगाई है।

इसके तहत शिक्षकों को हाथ में थर्मल गन व डंडा लेकर शहर के चौराहों पर खड़ा रहा होगा। उन्हें थर्मल गन से लोगों का तापमान मापना होगा तथा भीड़ इकट्ठा होने से रोकना होगा। शिक्षण समिति के आदेश से नाराज शिक्षकों का कहना है कि चौराहों पर ड्यूटी लगाना उनकी गरिमा के साथ मजाक है। इधर, प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता मनीष दोशी ने कहा कि राज्य में शिक्षकों के साथ अन्याय किया जा रहा है। वह गुरुवार को शिक्षकों के 4,200 ग्रेड पे की मांग के समर्थन में उपवास भी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षकों से पढ़ाने के साथ-साथ सर्वे, चुनाव कार्य, छात्रों के घर किताबें पहुंचाने व टिड्डियों को भगाने जैसे काम भी लिए जा रहे हैं। चौराहों पर ड्यूटी लगाना शिक्षकों का अपमान है।

इधर, गुजरात में बुधवार को कोरोना के 925 नए मामले सामने आए और 10 मौतें हुईं। 31346 डिस्चार्ज और 2081 लोगों की मौत सहित राज्य में कुल मामलों संख्या बढ़कर 44648 हो गई। स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के अनुसार राज्‍य में अब तक कुल संक्रमित मरीजों की संख्‍या 43,723 तक पहुंच चुकी है, 30,555 लोगों को स्‍वस्‍थ होने के अस्‍पताल से घर भेज दिया गया है। अब तक 2,071 लोगों की इस महामारी के कारण मौत हो चुकी है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.