Tarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: कर्जे में डूबे जेठालाल, दुकान पर लगा ताला, छोड़ देंगे गोकुलधाम सोसाइटी?

Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah Jethalal Shut His Shop Because Of Drowned In Debt And Leave Gokuldham Society

इन दिनों जेठालाल बहुत मुश्किलों से गुजर रहे हैं। जेठालाल पूरी तरह से कर्ज में डूब गए हैं। जिसके कारण उन्हें अपनी 12 साल पुरानी दुकान गड़ा इलेक्ट्रॉनिक्स पर ताला लगाना पड़ गया है। इस बात से वह बुरी तरह से परेशान हैं।

Priti KushwahaTue, 23 Feb 2021 12:04 PM (IST)

नई दिल्ली, जेएनएन। Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah: 'तारक मेहता का उल्टा चश्मा' घर-घर का पसंदीदा शो है। इस टीवी शो ने अपनी एक अलग ही पहचान बनाई है। ये फैमिली कॉमेडी शो बीते करीब 12 साल से दर्शकों का मनोरंजन कर रहा है। शो के वैसे तो हर किरदार की अपनी अलग फैन फॉलोइंग है। लेकिन सबसे ज्यादा जेठालाल की फैमिली को पसंद किया जाता है। लेकिन इन दिनों जेठालाल बहुत मुश्किलों से गुजर रहे हैं। जेठालाल पूरी तरह से कर्ज में डूब गए हैं। जिसके कारण उन्हें अपनी 12 साल पुरानी दुकान 'गड़ा इलेक्ट्रॉनिक्स' पर ताला लगाना पड़ गया है। इस बात से वह बुरी तरह से परेशान हैं। उनकी परेशानी यहीं खत्म नहीं हुई बल्कि कर्ज में डूबने के चलते उन्हें न सिर्फ अपनी दुकान पर ताला डालना पड़ा बल्कि गोकुलधाम सोसाइटी को भी छोड़ना पड़ रहा है। आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि ये सब आखिर हुआ कैसे?

दरअसल, जेठालाल ने लॉकडाउन से पहले कारोबार के दौरान जो लेन-देन किया था, उसमें कई व्यापारियों से पैसे लेने बाकी रह गए। लेकिन लॉकडाउन की वजह से कई पेमेंट अटक गए हैं। ऐसे में जेठालाल का सबसे ज्यादा पेमेंट बिजनेसमैन 'भोगीलाल' के पास अटका पड़ा था। वहीं भोगीलाल से पैसा लेकर जेठा अपने बाकी के व्यापारियों से लिया कर्जा चुकाने वाले थे लेकिन उनकी नीयत खराब हो गई और उसके जेठा को पैसे देने से साफ इनकार कर दिया। 'भोगीलाल' ने झूठ बोलकर जेठालाल को अपनी जाल में फंसा लिया और उन्हें ये यकीन दिला दिया कि वो खुद पैसों को लेकर परेशान है, जबकि ऐसा नहीं है। 

भोगीलाल' इस परिस्थिति को देखते हुए जेठा को उनसे अपने पैसे मांगना ठीक नहीं लग रहा है। लेकिन इसकी वजह से वह बुरी तरह से कर्ज में डूबते चले गए। वहीं वह अपने कर्मचारियों को भी पैसा नहीं दे पा रहे हैं। इसी वजह से उन्होंने दुकान बंद करने का फैसला लिया। जेठालाल इस बात से भी बहुत दुखी है कि उन्हें अपने दोस्तों और गोकुलधाम सोसाइटी को छोड़कर जाना पड़ रहा है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.