Bigg Boss 13: सीज़न का सबसे बड़ा ट्विस्ट, घर में बढ़े विवादों के कारण किया जा सकता है ये फैसला

नई दिल्ली, जेएनएन। सलमान खान द्वारा होस्ट किए जा रहे शो बिग बॉस के इस सीज़न को मसालेदार बनाने के लिए कई सारे बड़े बदलाव किए गए हैं। शो में इस सीज़न जहां दो फिनाले रखे गए हैं वहीं शो के कॉन्सेप्ट को बदला गया है। अब लग रहा है कि शो में बढ़ते मसाले के कारण इस सीज़न में एक और बड़ा बदलाव किया जा रहा है, जिसके चलते अब शो जनवरी में ऑफएयर नहीं होगा।

कलर्स टीवी पर प्रसारित होने वाले शो बिग बॉस 13 का ये हफ्ता काफी विवादों, लड़ाइयों और मसालों से भरा हुआ है। जहां एक तरफ सिद्धार्थ शुक्ला और आसिम रियाज़ के बीच हाथापाई हो रही है वहीं अब शहनाज़ गिल और हिमांशी में भी धक्का मुक्की शुरू हो गई है। शायद घर में हो रही लड़ाइयां ही हैं जो इस हफ्ते टीआरपी चार्ट की टॉप 10 लिस्ट में बिग बॉस को पहुंचा सकी हैं। स्पॉटबॉय के अनुसार शो को मिलते रिस्पॉन्स को देखते हुए इस सीज़न को जनवरी के बजाय अब फरवरी में ऑफएयर किया जाएगा। हर साल बिग बॉस को 90 से 100 दिनों में खत्म किया जाता था मगर इस बार बदलाव के चलते शो लगभग 120 से 140 दिनों का होने वाला है।

जाहिर है कि बिग बॉस शो के फैंस इस खबर को जानकर काफी खुश होने वाले हैं क्योंकि उन्हें अब एक महीने और सलमान खान और अपने फेवरेट कंटेस्टेंट्स देखने मिलने वाले हैं। शो के ऑफएयर होने की खबर काफी सुर्खियों में है हालांकि अब तक कलर्स चैनल और मेकर्स द्वारा इस मामले में कोई भी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। अब देखना होगा कि अगर ये खबर ठीक है तो आगे शो में और क्या क्या बदलाव किए जाते हैं।

यह भी पढ़ें: Bigg Boss 13: घरवालों ने निशाने पर खेसारी लाल यादव, इस हफ्ते हो सकते हैं घर से बेघर

शो के स्लॉट कि बात करें तो इस हफ्ते रश्मि देसाई, देवोलीना, सिद्धार्थ शुक्ला, आरती सिंह और खेसारी लाल यादव घर से बेघर होने के लिए नॉमिनेटेड हैं। इस हफ्ते घर में काफी झगड़े देखने मिले हैं। देखना मज़ेदार होगा कि होस्ट सलमान खान इन सब पर क्या प्रतिक्रिया देते हैं।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.