2018 की चर्चित ख़बरें: श्रीदेवी के निधन की न्यूज़ पा कर जब सन्न रह गया देश

मुंबई। रात के करीब ढ़ाई बज रहे थे। अचानक मीडिया के फोन घनघनाने लगे। दुबई से कुछ न्यूज़ आ रही थी। सबके कान और लैपटॉप्स के फ्लैप्स खड़े हो गए। यकीन नहीं हो रहा था। फिर सुबह हुई। ख़बर सुनकर देश स्तब्ध रह गया – श्रीदेवी की दुबई के एक होटल में बाथटब में डूबने से मौत हो गई।

साल 2018 अब कुछ दिनों का मेहमान है और हम आपको रोज़ इस साल की बड़ी ख़बरों की फिर से याद ताज़ा करवा आ रहे हैं l इस कड़ी में हमने आपको मी टू से जुड़ी ख़बरों के बारे में बताया था l 

यह भी पढ़ें: 2018 की 10 चर्चित ख़बरें: नंबर 1- Me Too से शर्मसार हुआ बॉलीवुड, नाना, साजिद और आलोक पर लगे आरोप

24 और 25 फरवरी के बीच की रात में हुआ ये हादसा साल की सबसे चौंकाने वाली ख़बर थी। तमिलनाडु के सिवकासी में जन्मी श्रीअम्मा यंगर अयप्पन, भारतीय फिल्मों के जरिये देश दुनिया में श्रीदेवी के नाम से जानी जातीं थीं। 54 साल की हिंदी सिनेमा की इस लेडी सुपरस्टार का यूं चले जाना उनके फैन्स और बॉलीवुड के लिए किसी गहरे सदमे से कम नहीं था।

यह भी पढ़ें: जब मौत से पहले अंतिम बार थिरकीं थी श्रीदेवी और पति बोनी कपूर से लिपट गईं

  "दुनिया के लिए वो चांदनी थीं,,'एक महान कलाकार'। लेकिन मेरे लिए वह मेरा प्यार, मित्र...मेरे बच्चों की मां थी। वह हमारी जिंदगी की धुरी थी।एक परिवार के तौर पर पिछले कुछ दिन बहुत कठिन रहे हैं। खासकर आज का दिन सबसे मुश्किल रहा। हमने एक खूबसूरत आत्मा को समय से पहले विदा किया है।"- बोनी कपूर 

यह भी पढ़ें: All Rounder थीं श्रीदेवी, यह पूछिए क्या नहीं आता था इन्हें

दरअसल श्रीदेवी की इस मौत को लेकर इसलिए भी लोग स्तब्ध थे क्योंकि उन्होंने कुछ घंटे पहले तक श्रीदेवी को झूम कर नाचते देखा था।

वो अपने पति से मिल कर चहक रही थीं। बेटी जाह्नवी कपूर के फिल्मी डेब्यू को लेकर बहुत ख़ुश थीं। पूरा परिवार बोनी कपूर के भांजे मोहित मारवाह की शादी में शामिल होने दुबई गया था।

यह भी पढ़ें: रजनीकांत के साथ ऐसा रहा है श्रीदेवी का रिश्ता, डेब्यू फ़िल्म में निभाया था ख़ास रोल

 "मेरी यह पुरानी आदत है कि मैं रात में कई बार सपने देखते हुए जाग जाता हूं और इस बीच अपना मोबाइल भी चेक करता रहता हूं। इसी दौरान रात को मैंने एक मैसेज पढ़ा कि श्री देवी अब हमारे बीच नहीं हैं। मुझे लगा यह कोई सपना है या फिर किसी ने कोई अफवाह उड़ाई है। यह सोच कर मैं फिर सो गया।"  -राम गोपाल वर्मा 

यह भी पढ़ें: श्रीदेवी को नम आंखों से विदाई, पूरे राजकीय सम्मान के साथ हुआ अंतिम संस्कार

परिवार समेत जुमेराह एमिरेट्स टॉवर्स में ठहरा था। रात 11 के बाद श्रीदेवी बाथरूम में गईं। वाइन पी हुई थी। काफ़ी देर तक बाहर नहीं हैं तो पति बोनी ने होटल स्टाफ के जरिये दरवाजा खुलवाया। वो बाथटब में बेहोश अवस्था में थीं। तुरंत उन्हें राशिद अस्पताल ले जाया गया, लेकिन इससे पहले ही उनकी सांसें थम चुकी थीं। डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इसके बाद दुबई के सरकारी अस्पताल में पोस्टमार्टम और दूसरी औपचारिकताएं पूरी की गई।

पार्थिव शरीर को मुंबई लाने में देर हुई क्योंकि इस बात की आशंका थी कि कहीं मौत असामान्य तरीके से तो नहीं हुई लेकिन दुबई पुलिस ने जांच के बाद केस क्लोज़ कर दिया। बुधवार 28 फरवरी को श्रीदेवी का अंतिम संस्कार कर दिया गया । लाखों की संख्या में लोग मौजूद थे और बॉलीवुड के तमाम दिग्गज भी।

यह भी पढ़ें: श्रीदेवी का एक दीवाना ऐसा भी: मान लिया था पत्‍नी, मौत पर कराया मुंडन

‘24 फरवरी की सुबह मैंने उन्हें (श्रीदेवी) कॉल किया और उनसे बातचीत की। श्रीदेवी ने बताया कि वो उन्हें (बोनी कपूर) मिस कर रही हैं। मैंने कहा मैं भी आपको बहुत ज्यादा मिस कर रहा हूं। लेकिन मैंने यह नहीं बताया कि मैं आज शाम को फिर से दुबई आ रहा हूं।  जाह्नवी (श्रीदेवी की बड़ी बेटी) ने मुझे यह आइडिया दिया था कि मुझे दुबई जाना चाहिए क्योंकि उसे अपनी मां की चिंता हो रही थी जो कभी अकेली नहीं रही थी। उसे लगा वह डर रही होंगी, अपना पार्सपोर्ट और डॉक्यूमेंट भी खो सकती हैं। हमारा 2018 का दुबई ट्रिप अनशेड्यूल था और यह बिल्कुल 1994 के बैंगलुरु ट्रिप के जैसे था। शादी के बाद 24 सालों में केवल दो ही मौके आये जब श्रीदेवी मेरे बिना अकेले विदेश दौरे पर गयीं। एक था न्यूजर्सी का और दूसरा था वैंकूवर का, लेकिन इन दोनों मौकों पर मेरे मित्र की पत्नी उनके साथ थी। यह पहला मौका था जब 23 और 24 फरवरी को श्रीदेवी दुबई के होटल में अकेले रहीं थी।'

 'जो कुछ हुआ, उसके लिए कोई तैयार नहीं था। वह पहले डूबीं, फिर बेहोश हुईं या पहले बेहोश हुईं, फिर डूबीं, शायद यह कभी पता नहीं चल पाएगा। बाथटब से थोड़ा सा भी पानी नीचे नहीं गिरा था।' - बोनी कपूर 

यह भी पढ़ें: Birthday Special: मां श्रीदेवी के साथ थी जाह्नवी कपूर की ख़ास बॉन्डिंग, देखिये कुछ अनदेखी तस्वीरें

श्रीदेवी को अंतिम विदाई देने के लिए सफ़ेद फूल से सजावट की गई है। 'वो चाहती थीं कि जब वो इस दुनिया से रुख़सत हों तो उनकी विदाई आम न हो। सब कुछ ख़ास हो। हर तरफ़ सफेदी हो। चांदनी सी चमचमाती सफेदी। चांदनी चली गई। एक युग का समापन हो गया। ऐसा युग जिसने पुरुष प्रधान कलाकारों की इंडस्ट्री में अपने टैलेंट के दम पर राज किया।

अभिनय, अदायगी, ख़ूबसूरती या मासूमियत कुछ भी कह लीजिए, श्री अब नहीं आएंगी, याद आयेंगे वो लम्हें और उनके किये गए काम की दुधिया चांदनी।

यह भी पढ़ें: Manikarnika Trailer: ख़ूब लड़ी कंगना क्योंकि वो झांसी वाली रानी है

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.