क्या भारत में एडल्ट फिल्म देखना अपराध है? इरोटिका और अश्लील फिल्मों में अंतर क्या है? यहां पढ़ें डिटेल

बिजनेस मैन राज कुंद्रा से अश्लील फिल्म बनाने और प्रसारण के मामले में जेल जाने से देशभर में ये चर्चा होने लगी है कि क्या यह कानून अपराध है? इरोटिका और अश्लील फिल्मों में अंतर क्या है? तो आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

Ruchi VajpayeeSat, 31 Jul 2021 11:04 AM (IST)
Image Source: Representative Photo Taken From Sambaad

नई दिल्ली, जेएनएन। बिजनेस मैन राज कुंद्रा से अश्लील फिल्म बनाने और प्रसारण के मामले में जेल जाने से देशभर में ये चर्चा होने लगी है कि क्या यह कानून अपराध है? और अगर है तो क्या ऐसी फिल्में देखना अपराध है या फिल्मों का निर्माण करना? इस अरपाध के लिए कितनी सजा या जुर्माने का प्रावधान है। तो आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

5 साल की सजा का है प्रवाधान

भारतीय कानून के अनुसार आप एडल्ट फिल्म देखने के लिए जेल नहीं जा सकते, लेकिन अश्लील सामग्री बांटने या बनाने के लिए आपको गिरफ्तार किया जा सकता है। यही वह बुनियादी समझ है जिसके द्वारा पुलिस, वकील, न्यायपालिका और निश्चित रूप से फिल्म निर्माता सहित पूरा देश काम करता है। सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 67A कहती है कि, "प्रकाशन, प्रसारण, और इलेक्ट्रॉनिक रूप में प्रसारित और प्रकाशित करने के लिए कोई भी सामग्री जिसमें यौन स्पष्ट कार्य या आचरण शामिल है, 5 साल तक के कारावास के साथ दंडनीय है और 10 लाख तक का जुर्माना है”। इसलिए, अगर आप अश्लील फिल्में बेचते या इसका व्यावसाय करते हुए पकड़े जाते हैं, तो आपको जेल हो सकती है और भारी जुर्माना लगाया जा सकता है।

इन कानूनों के संबंध में सबसे चर्चित उल्लंघन 19 जुलाई को राज कुंद्रा की गिरफ्तारी है। निर्माता-व्यवसायी पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 420 के तहत धोखाधड़ी के लिए, 34 सामान्य इरादे के लिए, 292 और 293, अश्लील और संबंधित मामला दर्ज किया गया है। अभद्र विज्ञापन और प्रदर्शन, आईटी अधिनियम की प्रासंगिक धाराओं के साथ-साथ महिलाओं का अश्लील प्रतिनिधित्व (निषेध) अधिनियम। मामले में शामिल उनके वकीलों और सहयोगियों ने कहा है कि कुंद्रा की कंपनियां, सहयोगी और उनके ऐप हॉटशॉट्स अश्लील फिल्मों के उत्पादन में शामिल नहीं थे, बल्कि इरोटिका के थे।

अब सवाल उठता है कि इरोटिका और अश्लील फिल्मों में अंतर क्या है?

इस विषय में कोई स्पष्ट निर्देश नहीं है, जानकारों की राय है कि इस तरह की सामग्री में आप अंतर नहीं कर सकते कि कौन सी इरोटिका है कौन सी अश्लील ये समाज की धारण पर निर्भर करता है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सीबीएफसी) की पूर्व सदस्य ज्योति वेंकटेश ने ईटाइम्स से कहा, "हमारे पास स्पष्ट निर्देश थे कि किसी भी भारतीय फिल्म में जननांग नहीं दिखाया जाना चाहिए। मेरे कार्यकाल के दौरान एकमात्र अपवाद शेखर कपूर की 'बैंडिट क्वीन' था क्योंकि उन्होंने ट्रिब्यूनल में जाकर बिना किसी कट के सर्टिफिकेट प्राप्त किया था। लेकिन मुझे याद है कि जब 'शिंडलर्स लिस्ट' जिसमें नग्नता थी, सर्टिफिकेट के लिए आई थी तो उसमें कट लगाना जरूरी थी। लेकिन स्टीवन स्पीलबर्ग के एक प्रतिनिधि ने कहा था कि अगर सीबीएफसी कटौती की मांग करती है, तो वे फिल्म को रिलीज नहीं करेंगे, इसलिए एक अपवाद बनाया गया था। वेंकटेश का मानना ​​है कि फिल्मों में प्राइवेट पार्टे्स किसी भी हाल में नहीं दिखाए जाने चाहिए।

वहीं सुप्रीम कोर्ट की वकील खुशबू जैन ने बताया कि अश्लील फिल्मों से जुड़े किसी भी मामले में कानून की दो प्राथमिक चिंताएं हैं। पहला यह है कि अगर सामग्री को 'अश्लील' के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है और दूसरा, कहीं अधिक गंभीर निहितार्थ, जहां न्यायपालिका को यह निर्धारित करना होगा कि क्या अश्लील सामग्री के उत्पादन के दौरान मानव तस्करी हुई है।

इस प्रक्रिया के बारे में बताते हुए, जैन कहती हैं, "एक केबल टेलीविजन नेटवर्क विनियमन अधिनियम, 1995 है, जो टेलीविजन पर अश्लील सामग्री के प्रसारण पर रोक लगाता है। इसके अलावा, सिनेमैटोग्राफ अधिनियम के अनुसार रिलीज से पहले फिल्म की जांच की जानी चाहिए। इसी तरह, इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड से संबंधित अश्लीलता सूचना और प्रौद्योगिकी अधिनियम के अंतर्गत आती है, जो इलेक्ट्रॉनिक रूप में यौन स्पष्ट कृत्यों आदि वाली सामग्री को प्रकाशित या प्रसारित करने के लिए दंड का प्रावधान करती है।

एक अन्य वरिष्ठ वकील मजीद मेमन कहते हैं, "यदि कोई अश्लील क्लिप आपके लिए सुलभ हो गई है तो इसका मतलब है कि किसी ने आपको दिया है। जो आप पर लागू होता है वह उस व्यक्ति पर भी लागू होगा, इसलिए दो वयस्क व्यक्तियों के बीच साझा करना एक अपराध नहीं हो सकता है, लेकिन यदि आप इसे पेशेवर रूप से साझा करने का प्रयास करते हैं या इसे मौद्रिक लाभ के लिए उपयोग करते हैं या इसे बेचते हैं या इसे प्रदर्शित करते हैं, तो इसे किसी भी रूप में सार्वजनिक करें। वैसे आप कानून का उल्लंघन कर रहे हैं।" 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.