भाजपा का दावा राजस्‍थान के इस सभा में करीब डेढ़ लाख लोग होंगे शामिल

जयपुर, जेएनएन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को राजस्थान के टोंक जिले से राजस्थान में पार्टी के चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करेंगे। पार्टी ने इसे विजय संकल्प सभा का नाम दिया है। विधानसभा चुनाव में भाजपा को मिली शिकस्त के बाद प्रधानमंत्री मोदी पहली बार राजस्थान आएंगे।

गौरतलब है कि टोंक राजस्थान के उपमुख्यमत्री सचिन पायलट का निर्वाचन क्षेत्र है। ऐसे में इस चुनावी रैली में जुटने वाली भीड़ पर सबकी नजर टिकी हुई है। भाजपा का दावा है कि इस सभा में करीब डेढ़ लाख लोग शामिल होंगे। इस बीच, हाल में हुए आतंकी हमले को देखते हुए टोंक में सुरक्षा के भी कड़े इंतजाम किए गए हैं।

आगामी लोकसभा चुनाव में प्रदेश की 25 सीटों पर कमल खिलाना इस बार राजस्थान भाजपा के लिए बड़ी चुनौती माना जा रहा है, क्योंकि अब यहां भाजपा की सरकार नहीं है। लोकसभा उपचुनाव में पार्टी अजमेर और अलवर की सीटें गंवा भी चुकी है, वहीं दौसा सीट से भाजपा के सांसद रहे हरीश मीणा कांग्रेस में शामिल हो चुके हैं। ऐसे में उपमुख्यमंत्री के निर्वाचन क्षेत्र से राजस्थान में भाजपा का चुनावी शंखनाद काफी अहम माना जा रहा है।

आठ विधानसभा क्षेत्र से आएंगे लोग

टोंक में होने वाली मोदी की चुनावी सभा में करीब डेढ़ लाख लोगों के जुटने का वादा किया जा रहा है। भीड़ जुटाने के लिए भाजपा ने टोंक-सवाई माधोपुर लोकसभा क्षेत्र में आने वाली आठ विधानसभा सीटों के पार्टी नेताओं को टारगेट दिए हैं। गंगापुर, बामनवास, सवाई माधोपुर और खंडार 4 विधानसभा सीटों से कुल 65 हजार और टोंक में आने वाली टोंक, निवाई विधानसभा क्षेत्र से 25-25 हजार लोगों को लाने का लक्ष्य रखा गया है। देवली व मालपुरा विधानसभा क्षेत्र से प्रत्येक से 15 से 20 हजार लोगों को लाने का टारगेट दिया गया है। पार्टी पूरे दमखम के साथ राजस्थान मे लोकसभा चुनाव के लिए प्रधानमंत्री पहली सभा को सफल बनाने में जुटी हुई है।

ये रहेगा कार्यक्रम

सभा करीब 11ः00 बजे शुरू हो जाएगी, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपरान्ह 1.30 बजे यहां पहुंचेंगे। वे जयपुर हवाई अड्डे से हेलीकॅाप्टर के जरिए टोंक आएंगे। यहां करीब 45 मिनट सभा को संबोधित करेंगे और शाम साढ़े चार बजे वापस दिल्ली पहुंच जाएंगे।

सुरक्षा के कड़े इंतजाम

हाल में पुलवामा में हुए आतंकी हमले को देखते हुए प्रधानमंत्री मोदी की इस रैली के लिए सुरक्षा के कड़े इंतमाज किए गए हैं। सुरक्षा व्यवस्थाओं से जुड़े अधिकारी इसमें किसी भी तरह की चूक नहीं होने देना चाहते हैं। सुरक्षा के लिए तीन स्तरीय चक्र बनाया गया है और मंच के आस-पास के क्षेत्र में प्रवेश पत्र के बिना किसी को भी प्रवश नहीं दिया जाएगा।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.