गौतमबुद्ध नगर लोकसभा सीट : लगभग 13000 नए वोटर पहली बार चुनेंगे सांसद

नोएडा [चंद्रशेखर वर्मा]। गौतमबुद्ध नगर में इस बार 21वीं सदी में जन्मे 13,183 युवा पहली बार अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। वर्ष 2000 से 2001 के बीच जन्में इनकी आयु 18 से 19 वर्ष के बीच है। नोएडा की बात करें तो यहां 5,953 युवा पहली बार लोकतंत्र के लिए वोट करेंगे। वहीं, दादरी में इनकी संख्या 4,853 है। जबकि, जेवर में 2,377 वोटर 18 से 19 वर्ष के बीच के हैं। इन नवयुवकों ने बताया कि पहली बार मतदान करने के लिए बहुत उत्सुक हैं। हम पहली बार अपनी सरकार चुनने जा रहे हैं।

उनका कहना है कि लोग मतदान न करके लोकतंत्र में अपनी भागीदारी नहीं देते हैं। इसके बाद पांच वर्ष सरकार को कोसते रहते हैं। हम सबको को इस महापर्व में अपना योगदान देना चाहिए। हम खुद भी मतदान करेंगे और दूसरों को भी इसके लिए प्रेरित करेंगे।

वहीं, कुछ का कहना था कि सरकार की छात्र विरोधी नीतियों के कारण शिक्षा का स्तर गिरता जा रहा है। फीस बढ़ोतरी से लेकर अन्य संसाधनों के महंगे होने से उच्च शिक्षा मध्यम वर्ग के छात्रों की पहुंच से दूर होती जा रही है। ऐसे में जो उम्मीदवार छात्र हित और शिक्षा में सुधार की बात करेगा, उसको सपोर्ट करेंगे।

अमन त्यागी (छात्र, आइएमएस) का कहना है कि पहली दफा मतदान करने जाऊंगा। बहुत बढि़या अहसास है। अब मैं भी लोकतांत्रिक सरकार बनाने में अपनी भागीदारी निभाऊंगा। वहीं, नोएडा की बात करें तो यह राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का हिस्सा है। यहां की सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था न तो दुरुस्त है और न ही सुरक्षित। मैं जिसे वोट करूंगा, उससे अपेक्षा रहेगी कि इसके लिए सकारात्मक पहल करें।  

पहली बार मतदान के लिए काबिल हुआ हूं। काफी सुखद अहसास है। मेरा वोट उस शख्स को जाएगा, जो देश के विकास की बात करेगा। वहीं, शिक्षा में सुधार भी मेरे मुद्दों में शामिल रहेगा। 

विशाला मल्होत्रा (छात्र, एमिटी विश्वविद्यालय) की मानें तो काफी समय से मतदान का इंतजार कर रहा था। इस बार जाकर मेरी इच्छा पूरी होगी।

रोहित (निवासी, सेक्टर-11) के मुताबिक, मैं ऐसे उम्मीदवार को वोट दूंगा, जो धर्म और जातपात की राजनीति नहीं करेगा और ईमानदारी से देश के विकास में योगदान देगा। 

शिल्पा सिंह (सेक्टर-31) ने कहा कि पहली बार वोट करने को लेकर काफी उत्सुक हूं। हर वोट कीमती है। मैं वोट की अहमियत समझती हूं। एक युवा होने के नाते मैं चाहती हूं कि हम जिन नेताओं और सांसदों को चुनते हैं, वे विकास और रोजगार पर काम करे।  

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.