छत्तीसगढ़ में सभी सांसदों के टिकट काट अब, फ्रंटफुट पर खेलने को तैयार भाजपा

नईदुनिया, रायपुर। छत्तीसगढ़ में भाजपा सांसदों के टिकट कट गए हैं। भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति ने छत्तीसगढ़ के अपने सभी 10 सांसदों को टिकट नहीं देने और उनकी जगह पर नए चेहरों को उतारने का फैसला लिया है। छत्तीसगढ़ में 15 साल बाद भाजपा विधानसभा चुनाव हारी। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने विधानसभा चुनाव के पहले भी सर्वे कराया था। उनके सर्वे में भी यही बात आई थी कि विधायकों और मंत्रियों के टिकट काटे जाएं।

लेकिन तब पार्टी कड़ा फैसला नहीं ले पाई थी। इसका परिणाम यह हुआ कि उसे करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा। इसके बाद पार्टी ने तय किया कि अब कोई रियायत नहीं की जाएगी। इसके बाद भाजपा आलाकमान ने टिकट काटने पर सहमति दे दी। उधर, बसपा और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जकांछ) के गठबंधन की हांडी पकने से पहले उतर गई है। गठबंधन का फायदा जकांछ को मिला। बसपा को दो ही सीटें मिलीं, जबकि जकांछ को पांच।

माना जा रहा है कि मायावती इस बात को लेकर नाराज हैं कि जकांछ ने बसपा के नेताओं-कार्यकर्ताओं का उपयोग किया, लेकिन जकांछ के नेताओं-कार्यकर्ताओं ने बसपा प्रत्याशियों के लिए काम नहीं किया। हालांकि, दोनों दलों के नेताओं का कहना है कि अभी उम्मीद है।

बता दें कि लोकसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा हो चुकी है। सात चरणों में यह चुनाव होने है। 11 अप्रैल से लेकर 19 मई तक यह चुनाव होने वाले है। जिनमें पहले(11 अप्रैल), दूसरे(18 अप्रैल) और तीसरे(23 अप्रैल) चरणों में छत्तीसगढ़ में मतदान होना है।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.