Jharkhand Election 2019: हेमंत का हेलीकॉप्‍टर रोकने पर झामुमो गरम, गिलुवा ने कांग्रेस को बताया ठग Political Updates

Jharkhand Election 2019: हेमंत का हेलीकॉप्‍टर रोकने पर झामुमो गरम, गिलुवा ने कांग्रेस को बताया ठग Political Updates

Jharkhand Assembly Election 2019 झामुमो ने कहा कि वीवीआइपी सुरक्षा आवश्यक है लेकिन अन्य दलों का प्रचार कतई प्रभावित नहीं हो। पार्टी ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग से की है।

Publish Date:Tue, 10 Dec 2019 09:25 PM (IST) Author: Alok Shahi

रांची, राज्य ब्यूरो। Jharkhand Assembly Election 2019 वीवीआइपी सुरक्षा के नाम पर अपने दल के स्टार प्रचारक हेमंत सोरेन के हेलीकॉप्टर की उड़ान को बाधित किए जाने पर झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) ने आपत्ति जताई है। पार्टी महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य और प्रवक्ता मनोज कुमार पांडेय ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग से की है। सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि वीवीआइपी सुरक्षा आवश्यक है, लेकिन यह भी ख्याल रखना चाहिए कि अन्य दलों का प्रचार अभियान इससे कतई प्रभावित नहीं हो। तीन दिसंबर को प्रधानमंत्री की सभाओं के मद्देनजर हेमंत सोरेन का हेलीकॉप्टर नहीं उड़ान भर पाया। उन्हें मोबाइल से सभा को संबोधित करना पड़ा। नौ दिसंबर को भी उड़ान में बाधा पैदा की गई। इस प्रवृत्ति पर रोक लगाना आवश्यक है। ध्यान रखना चाहिए कि विभिन्न प्रत्याशियों के लिए चुनाव प्रचार कर रहे स्टार प्रचारक खुद भी चुनाव लड़ रहे हैं। ऐसे में उन्हें प्रचार कार्य में सहयोग की अपेक्षा है।

झारखंड के किसानों को ठगने का प्रयास न करें राहुल : गिलुवा

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा ने किसानों की कर्जमाफी के कांग्रेस के वादे पर कटाक्ष किया है। कहा है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी फिर मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की तर्ज पर झारखंड में भी किसानों को ठगने का मन बना चुके हैं। कांग्रेस सरकार ने किसानों को कितनी सख्त शर्तों के साथ कर्जमाफी दी थी, यह पूरा देश देख चुका है।

गिलुवा ने कहा कि मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में सिर्फ चुनिंदा किसानों को ही इसका लाभ मिला है, अधिसंख्य किसान इस दायरे से बाहर रहे। वहां अपना पूरा कर्ज माफ होने को सोचकर किसानों ने कांग्रेस को जिता तो दिया, लेकिन जब इन शर्तों की लिस्ट उनके सामने आई, तो किसानों का गुस्सा भी उबाल पर आ गया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने किसानों के सिर्फ अल्पकालीन कृषि ऋण को ही माफ किया है, जो कि महज 20 से 30 हजार रुपये ही होता है। अब तो राहुल गांधी और कांग्रेस पार्टी के झूठे वादों को पूरा देश समझ चुका है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.