Jharkhand Assembly Election 2019: RSS स्वयंसेवक पूरे राज्य में चला रहे मतदाता जागरुकता अभियान

रांची, [संजय कुमार]। Jharkhand Assembly Election 2019 - झारखंड विधानसभा चुनाव में अधिक से अधिक वोटिंग हो इसके लिए चुनाव आयोग अपने स्तर से लगातार प्रयास कर रहा है। वहीं, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं अनुषांगिक संगठनों से जुड़े कार्यकर्ता भी पूरे प्रदेश में मतदाता जागरूकता अभियान चला रहे हैं। इस कार्य में हजारों कार्यकर्ता लगे हैं। घर-घर जाकर लोगों से पूरे परिवार के साथ वोट देने की अपील कर रहे हैं।

इसके प्रदेश स्तरीय संयोजक आरएसएस के सह प्रांत कार्यवाह राकेश लाल एवं राजीव कमल बिट्टू बनाए गए हैं। आरएसएस के प्रांत प्रचारक रविशंकर इस पर स्वयं नजर रखे हुए हैं। प्रांत प्रचारक ने कहा कि संघ को राजनीति से कुछ लेना देना नहीं है, लेकिन सामाजिक जीवन में रहने एवं जागरूक देश की जनता के नाते कर्तव्य बनता है कि चुनाव में अधिक से अधिक वोटिंग हो, ताकि अच्छी सरकार चुन कर आए। इसके लिए ही सभी जिलों में अभियान चलाया जा रहा है।

कार्यकर्ता लोगों से घरों से निकल कर वोट डालने की अपील कर रहे हैं। किसी पार्टी विशेष का नाम नहीं लेते हुए कुछ मुद्दों को लेकर लोगों के बीच जा रहे हैं। संघ सूत्रों के अनुसार पिछले एक माह से संघ परिवार के हजारों कार्यकर्ता मतदाता जागरण अभियान के बैनर तले काम कर रहे हैं। सुबह घर से निकलते हैं तो शाम में ही लौटते हैं। इसके लिए सभी विधानसभा, जिला, मंडल, बस्ती और नगर के प्रभारी बनाए गए हैं। इसके साथ ही सभी बूथों के लिए टोली बनाई गई है।

उस टोली से जुड़े कार्यकर्ता किसी पार्टी व व्यक्ति विशेष का नाम नहीं लेते हुए लोगों के घरों में जाकर वोट देने की अपील कर रहे हैं। साथ में एक पत्रक भी दे रहे हैं। उसमें राष्ट्रवादी व स्थायी सरकार, गो तस्करी रोकने, बेरोजगारी दूर करने, शिक्षा की समस्या दूर करने, एनआरसी व जनसंख्या नियंत्रण को लागू करने, प्रदेश में धर्मांतरण कानून सख्ती से लागू करने जैसे मुद्दों पर लोगों से वोट देने की अपील जरूर कर रहे हैं। साथ ही यह भी अपील कर रहे हैं कि आपके एक वोट से बनने वाली सरकार से प्रदेश में विदेशी घुसपैठ की समस्या का समाधान होगा, जल, जमीन, जंगल एवं जानवर का संरक्षण होगा।

मतदाता जागरण का दिखा असर

मतदाता जागरण अभियान में आरएसएस के कार्यकर्ता के साथ-साथ एकल अभियान, विकास भारती, वनवासी कल्याण केंद्र, विहिप, अभाविप, विद्या भारती, सेवा भारती, सहकार भारती, अधिवक्ता परिषद, आरोग्य भारती सहित संघ पर्विार से जुड़े संगठनों के लोग इसमें लगे हैं। इसका असर भी पहले चरण के मतदान में दिखा, जहां 65 फीसद से अधिक वोटिंग हुई। एक दो स्थानों पर तो 70 फीसद तक वोटिंग हुई।

1952 से 2020 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.