Jharkhand Assembly Election 2019 2nd phase Voting: लोकतंत्र के यज्ञ में वोट की आहूति दिलाने निकली पोलिंग पार्टियां

जमशेदपुर, जेएनएन।   Jharkhand Assembly Election 2019 2nd phase Voting झारखंड विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान के लिए शुक्रवार को पोलिंग पार्टियां बूथों ने लिए निकल गई हैं। सुबह से ही चार विधानसभा क्षेत्र के लिए पोलिंग पार्टी को रवाना किया जा रहा है। गुरुवार को पूर्वी सिंहभूम के दो विधानसभा क्षेत्र बहरागोड़ा व घाटशिला के लिए पोलिंग पार्टी को भेजा गया।

बहरागोड़ा-घाटशिला के लिए कल रवाना हुई थी 555 पोलिंग पार्टी  सुदूर व नक्‍सल प्रभावित इलाकों के लिए को-ऑपरेटिव कॉलेज व लोयला स्कूल से बहरागोडा व घाटशिला के लिए कुल 555 पोलिंग पार्टियों को जिला निर्वाचन पदाधिकारी रविशंकर शुक्ल की उपस्थिति में गुरुवार को ही रवाना किया गया था। सभी पोलिंग पार्टी अपने कलस्टर में हे। शनिवार की अहले सुबह अपने मतदान केंद्रों के लिए कूच करेगी। बहरागोडा के लिए 264 व घाटशिला के लिए 291 पोलिंग पार्टियों को रवाना किया गया है। को-ऑपरेटिव कॉलेज में बनाए गए डिस्पैच सेंटर से सभी पोलिंग पार्टियों को ईवीएम व वीवीपैट देकर बस, कार, पिकअप वैन से रवाना किया गया ताकि उन्हें मतदान स्थल तक पहुंचने में परेशानी न हो। इस दौरान टीम के साथ पुलिस पार्टियों, जैप के जवानों को भी सुरक्षा के लिए रवाना किया गया है। 

कॉलेज परिसर में मोबाइल टॉयलेट व बनाए गए थे अस्थायी टेंट

कॉलेज परिसर में मतदान कर्मियों को किसी तरह की परेशानी न हो। इसके लिए निर्वाचन विभाग द्वारा बड़े-बड़े साइन बोर्ड बनाए गए थे। बहरागोडा व घाटशिला के लिए अलग-अलग डिस्पैच सेंटर बनाए गए थे। वहीं, मतदानकर्मियों की मदद के लिए हेल्प डेस्क, स्वास्थ्य केंद्र, मोबाइल टॉयलेट की भी व्यवस्था की गई थी। वहीं, दो जगहों पर विशाल अस्थायी टेंट भी बनाए गए थे ताकि मतदानकर्मी अपने सामानों की जांच के उपरांत अपने मतदान केंद्रों की ओर कूच कर सके।

ईवीएम के लिए मिला स्पेशल बैग

विधानसभा चुनाव में पहली बार मतदानकर्मियों को ईवीएम मशीन ले जाने के लिए स्पेशल बैग दिए गए। जिसे मतदान कर्मी अपनी पीठ पर ढांग कर जा सकते हैं। 

ठंड से बढ़ी मतदानकर्मियों की परेशानी

झारखंड में बढ़ती ठंड ने मतदानकर्मियों की परेशानी बढ़ा दी है। मतदान केंद्रों पर निकलने वाले सभी टीम के सदस्य अपने साथ ईवीएम व वीवीपैट के अलावे एक-एक एयर बैग या ट्रॉली बैग भी अपने साथ लेकर जा रहे हैं। इसमें अपने लिए दो जोड़े शर्ट-पैंट, कंबल, जरूरत के सामान साथ रखे हुए है। वहीं, कई मतदानकर्मी अपने साथ ब्लड प्रेशर, शुगर सहित कई तरह की दवा भी साथ रखे हुए हैं।

सत्तू-चिवड़ा के बजाए मिला नकद

पहले मतदानकर्मियों को पोलिंग जाते समय निर्वाचन विभाग से सत्तू, चिवड़ा व गुड़ सहित अन्य खाद्य सामग्री खाने-पीने के लिए दिए जाते थे। लेकिन अब सभी को नकद राशि उनके दो दिन के खर्चे के लिए दिए गए हैं। इसमें पीठासीन पदाधिकारी को तीन हजार जबकि पोलिंग ऑफिसर को 2400 रुपये अपने स्तर पर खाने-पीने की व्यवस्था करने के लिए दिए गए हैं। वहीं, कुछ मतदानकर्मी एहतियात के तौर पर अपने साथ सत्तू, भुजा, बादाम, लिट्टी भी खाने के लिए साथ ले गए हैं।

कच्चे रास्ते पर वाहन ले जाने की है मनाही

पोलिंग पार्टी की कुछ टीम के सदस्यों के अनुसार सभी को जिला निर्वाचन विभाग की ओर से स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी वाहन लेकर कच्चे रास्ते पर नहीं जाएंगे। यदि रास्ता कच्चा है तो वे पैदल ही अपने मतदान केंद्रों तक पहुचेंगे। 

घाघरा गांव तक पहुंचने के लिए चलना होगा नौ किलोमीटर पैदल

कुछ पोलिंग पार्टी टीम को पूर्वी सिंहभूम और बंगाल के बार्डर पर स्थित घाघरा गांव में भी मतदान कराने के लिए जाना है। ऐसे में पोलिंग पार्टी को अपने निकटवर्ती कलस्टर से नौ किलोमीटर पैदल चलकर जाना है। इसे सुनते ही टीम के कई सदस्यों के सांस फूलते दिखे।

चार विस के लिए आज रवाना होगी पोलिंग पार्टी

शुक्रवार को जमशेदपुर पूर्वी व पश्चिम, जुगसलाई व पोटका विधानसभा क्षेत्रों के लिए पोलिंग पार्टियों को को-ऑपरेटिव कॉलेज से रवाना किया जाएगा। इसके लिए कॉलेज परिसर में विधानसभावार अलग-अलग डिस्पैच सेंटर बनाए जा रहे हैं। 

कॉलेज में रहा मेले जैसा दृश्य

कॉलेज परिसर में दृश्य मेले जैसे रहा। हर कोई भागता दिखा। कोई वाहन कोषांग की ओर भाग रहा है तो कोई डिस्पैच सेंटर की ओर। वाहन कोषांग से लगातार संबधित गाड़ी के चालक को वहां पहुंचने का निर्देश मिलता रहा। वहीं, जिन्हें डिस्पैच सेंटर से पोलिंग के सामान मिल चुके थे वे अस्थायी केंद्र में आराम फरमाते दिखे। 

खाने-पीने के लगे हैं कई स्टॉल

मतदान कर्मियों के लिए यहां खाने-पीने के काफी स्टॉल लगे हुए हैं। यहां चाय से लेकर केक और लिट्टी, ब्रेड चॉप से लेकर दाल-भात और दोसा-इडली के भी स्टॉल स्थानीय लोगों ने लगाए हुए हैं। जहां कई मतदानकर्मी अपने मतदान केंद्रों की ओर रवाना होने से पहले पेट पूजा करते दिखे। 

1952 से 2020 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.