Jharkhand Assembly Election 2019 : अलग हुआ आजसू तो ईचागढ़ में रोचक होगा चुनावी संघर्ष Jamshedpur News

जमशेदपुर, दिलीप कुमार। झारखंड के सरायकेला- खरसावां जिले के ईचागढ़ विधानसभा क्षेत्र के वोटर का मिजाज हर चुनाव में बदल जाता है। इसबार वोटर वेट एंड वाच की स्थिति में हैं। यदि भाजपा और आजसू पार्टी की राह अलग हुुई तो यहां का चुनाव काफी रोचक हो जाएगा। यह सीट किसी पार्टी के लिए आसान नहीं होगी। पिछले विस चुनाव में यह सीट भारतीय जनता पार्टी की झोली में गई थी। लोगों ने साधुचरण महतो के पक्ष में जनादेश दिया था। उन्हें रिकार्ड 75634 मत मिले थे।

ईचागढ़ सीट पर दो बार ही चुनाव जीत सकी है भाजपा

ईचागढ़ सीट पर भाजपा अबतक सिर्फ दो बार ही चुनाव जीत सकी है। झारखंड राज्य गठन के पूर्व वर्ष 2000 में भाजपा से अरविंद कुमार सिंह चुनाव जीते थे। इसके पूर्व अरविंद सिंह निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीते थे। गौर करनेवाली बात यह है कि झारखंड में हुए विस चुनाव में ईचागढ़ से बगैर आजसू के सहयोग से भाजपा एकबार भी चुनाव नहीं जीत सकी है। वर्ष 2005 में हुए भाजपा प्रत्याशी अरविंद कुमार सिंह 45166 वोट प्राप्त कर दूसरे स्थान पर थे। भाजपा व आजसू ने अलग-अलग प्रत्याशी चुनावी मैदान में उतारा था। इसके बाद वर्ष 2009 में झारखंड विकास मोर्चा के टिकट पर अरविंद कुमार सिंह फिर से विधायक बने। इस चुनाव में भी भाजपा और आजसू ने अलग-अलग प्रत्याशी उतारा था। आजसू दूसरे और भाजपा चौथे स्थान पर रही। वर्ष 2014 में भाजपा-आजसू के बीच गठबंधन हुआ और भाजपा को जीत मिली।

साधु के खिलाफ ताल ठोकेंगे अरविंद, झामुमो सविता पर खेल सकता दांव

आगामी चुनाव में भाजपा के निर्वतमान विधायक साधुचरण महतो के अलावा यहां से झारखंड मुक्ति मोर्चा के टिकट पर पूर्व उपमुख्यमंत्री सुधीर महतो की पत्नी सह झामुमो की केंद्रीय उपाध्यक्ष सविता महतो, पूर्व विधायक अरविंद कुमार सिंह, स्थानीय समाजसेवी हरेलाल महतो चुनावी मैदान में जोर आजमाएंगे। इसके साथ ही झारखंड विकास मोर्चा ने विनोद राय और बहुजन समाज पार्टी ने धनेश्वर महतो को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। आजसू पार्टी अबतक अपने प्रत्याशी की घोषणा नहीं की है। वैसे आजसू पार्टी ने अबतक यहां स्थानीय उम्मीदवार को ही प्राथमिकता देते आई है। ऐसे में कई ऐसे नेता दावेदार हैैं, जो क्षेत्र में फील्डिंग कर रहे हैैं।

तीसरी बार किस्मत आजमाएंगे साधुचरण

निवर्तमान विधायक साधुचरण महतो भाजपा के टिकट पर लगातार तीसरी बार किस्मत आजमाएंगे। दूसरे चुनाव में उन्हें सफलता मिली थी। झामुमो की सविता महतो दूसरे नंबर थी। उन्हें 33384 वोट मिले थे। झामुमो की परंपरागत वोटों के साथ शहीद परिवार की बहू होने का लाभ उन्हें मिलने की उम्मीद है। वहीं पूर्व विधायक अरविंद कुमार सिंह उर्फ मलखान सिंह ईचागढ़ सीट से तीन बार चुनाव जीतकर विधायक बने हैं। गैर महतो वोट पर उनकी अच्छी पकड़ है। विधानसभा चुनाव में इस बार भी पूर्व की भांति ईचागढ़ विस क्षेत्र में स्थानीय विधायक बनाने की हवा बह रही है। इसी बीच स्थानीय समाजसेवी हरेलाल महतो भी चुनाव में अपनी किस्मत आजमाएंगे। वे किसी पार्टी से चुनाव लड़ेंगे या निदर्लीय यह अबतक साफ नहीं हैं। 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.