Jharkhand Assembly Election 2019: कांग्रेस की दरकती जमीन बचाने लोहरदगा पहुंचे उमंग सिंघार, सुखदेव भगत संग कर रहे चर्चा

लोहरदगा, जासं। Jharkhand Assembly Election 2019 - कांग्रेस के कद्दावर नेता, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और लोहरदगा विधायक सुखदेव भगत के भाजपा में शामिल होने की अटकलों के बीच कांग्रेस महकमे में बेचैनी फैल गई है। कांग्रेस की दरकती जमीन को बचाने के लिए कांग्रेस के झारखंड प्रदेश सह प्रभारी उमंग सिंघार, झारखंड प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष मानस सिन्हा सहित कांग्रेस के कई दिग्गज नेता अचानक अपराह्न 1:47 पर लोहरदगा स्थित विधायक सुखदेव भगत के आवास पर पहुंच गए। उस समय सुखदेव भगत अपने घर में कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करते हुए जन मुद्दों पर चर्चा कर रहे थे।

अचानक से कांग्रेस के दिग्गज नेताओं के लोहरदगा पहुंचने से राजनीतिक पारा फिर से बढ़ गई है। कांग्रेस की दरकती जमीन को अंतिम समय तक बचाने के लिए मध्य प्रदेश के वन व पर्यावरण मंत्री और झारखंड कांग्रेस के सह प्रभारी उमंग सिंघार लोहरदगा पहुंचे हैं। सुखदेव भगत के भाजपा में शामिल होने की अटकलों के बाद कांग्रेस में राजनीतिक हलचल अब काफी बढ़ गई है। हालांकि पूरे प्रकरण पर सुखदेव भगत खामोश हैं। इससे कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में बेचैनी देखी जा रही है।

सुखदेव भगत से जब इस बारे में बात की गई तो उन्होंने बस इतना ही कहा कि वे अभी तक कांग्रेस में ही हैं। इससे ज्यादा उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। कुल मिलाकर लोहरदगा में जो स्थिति बनी है, उसने प्रदेश की राजनीति को गर्म कर दिया है। सूत्रों की मानें तो कांग्रेस के दिग्गज नेताओं ने सुखदेव भगत के पुत्र अभिनव सिद्धार्थ और पत्नी अनुपमा भगत से भी अलग-अलग बात कर सुखदेव भगत को कांग्रेस में रोककर रखने के लिए अंतिम रूप से प्रयास किया।

सुखदेव भगत के भाजपा में शामिल होने की अटकलों के बीच अब लोहरदगा के आम मतदाताओं को भी पूरे घटनाक्रम से पर्दा उठने का इंतजार है। लोहरदगा के अलग-अलग क्षेत्रों से भी कांग्रेसी कार्यकर्ता और पदाधिकारी सुखदेव भगत के आवास पर पहुंच रहे हैं। सभी इस बात को लेकर संशय में हैं कि सुखदेव भगत क्या सचमुच भाजपा में शामिल हो रहे हैं, या फिर यह महज अफवाह है। सुखदेव भगत की ओर से कोई भी स्पष्ट जवाब नहीं मिलने से संशय की स्थिति और भी गहराती जा रही है।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.