Jharkhand Election 2019: प्रियंका का निगेटिव संदेश, राहुल जाएंगे विदेश; हताश हुए कांग्रेसी

रांची, [आशीष झा]। Jharkhand Assembly Election 2019 झारखंड में चुनाव प्रचार के लिए तैयार स्टार प्रचारकों की सूची में उम्मीदवारों की मांग पर प्रियंका गांधी का नाम भी जोड़ा गया है लेकिन उनकी ओर से साफ तौर पर झारखंड आने से इन्कार कर दिया गया है। इतना ही नहीं, राहुल गांधी के विदेश जानी की तिथि भी तय होने की सूचना है जिसके बाद हताश कांग्रेसियों के लिए सोनिया गांधी ने एक बार प्रचार के लिए आने पर हामी भर दी है। इस बीच, सोनिया गांधी के आने की सूचना से कांग्रेसी खुश दिख रहे हैं। दूसरे चरण के अंत या तीसरे चरण में उनका आगमन होने की संभावना है।

पहले स्वास्थ्य कारणों से उनके चुनाव प्रचार से दूर रहने की बात कही जा रही थी लेकिन गांधी परिवार की मौजूदगी के नाम पर वे आएंगी। सूत्रों के अनुसार पूरे चुनाव में वे सिर्फ एक बार ही आएंगी। इसकी तारीख तय की जा रही है। स्टार प्रचारकों की दूसरी सूची में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, सचिन पायलट, शत्रुघ्न सिन्हा, कीर्ति आजाद समेत कई और नेताओं के नाम स्टार प्रचारकों की सूची में जोड़ दिया गया है।

कांग्रेस सूत्रों के अनुसार प्रियंका गांधी वाड्रा ने साफ तौर पर झारखंड आने से मना कर दिया है। संभवत: उनसे इस मुद्दे पर आगे बात भी नहीं होगी। सोनिया, मनमोहन और राहुल के बाद चौथे नंबर पर उनका नाम है। दूसरी ओर, राहुल गांधी इसी दौरान विदेश यात्रा पर जानेवाले हैं। इस कारण उनके आने की संभावना भी कम है। हालांकि कुछ कांग्रेस नेताओं के अनुसार विदेश जाने से तीन-चार दिन पहले अगले महीने की 10 तारीख के आसपास वे एक तारीख दे सकते हैं। 

एक दर्जन से अधिक नेता-मंत्री झारखंड में उतरे

कांग्रेस ने छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, पंजाब और राजस्थान के एक दर्जन से अधिक नेता और मंत्रियों को चुनाव प्रचार में उतार दिया है। पूरा कार्यक्रम माइक्रो लेवल पर चल रहा है और एक प्रखंड अथवा एक विधानसभा क्षेत्र में रहकर ये नेता किसी प्रत्याशी का प्रचार कर रहे हैं। कई मंत्री सिंगल कार में घूमकर लोगों तक संदेश पहुंचा रहे हैं। 

कांग्रेसियों का डर, कहीं हरियाणा की तरह मुहाने पर न अटक जाएं

राहुल और प्रियंका के नहीं आने की संभावनाओं के बीच कांग्रेसियों के मन में यह बात घर करती दिख रही है कि हरियाणा की तरह झारखंड में भी पार्टी सत्ता के मुहाने पर ना अटक जाए। कई नेताओं ने यह बात कही है कि राहुल और प्रियंका ने हरियाणा में अधिक समय नहीं दिया था जिसका परिणाम सबके सामने है। झारखंड में झामुमो के साथ तालमेल कर बेहतर माहौल बना है जिसमें इन नेताओं के पहुंचने से परिणाम पर असर का भरोसा कांग्रेस की कोर टीम को है।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.