नारनौल में ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार वापस लिया

नारनौल/रेवाड़ी, जेएनएन। अकबरपुर रामू के पोलिंग बूथ पर मतदान शुरू हुआ वहीं आरओ और एसडीएम प्रितपाल सिंह ने ग्रामीणों को कानूनी दायरे में रहकर मदद करने का आश्वासन दिया है। इसके पश्चात ग्रामीणों ने मीटिंग कर मतदान में भाग लेने का निर्णय लिया और मतदान सुचारू रूप से शुरू हुआ। मतदान बूथ पर ग्रामीणों द्वारा बहिष्कार की सूचना पाकर एसडीएम के अलावा डीसी जगदीश शर्मा व एसपी दीपक सहारण भी पोलिंग बूथ पर पहुंचे थे।

इससे पहले ग्राम अकबरपुर रामू के बूथ नंबर 28 पर वीवी पैट मशीन क्षतिग्रस्त होने के बाद चुनाव आयोग द्वारा पुनर्तदान कराने के निर्णय का ग्राम ने बहिष्कार कर दिया था। 

इससे पहले चुनाव आयोग के आदेश पर प्रशासनिक अधिकारी और पोलिंग पार्टियां गांव के माध्यमिक स्कूल में बने पोलिंग बूथ पर पहुंची, मगर ग्रामीणों ने इसमें भाग नहीं लिया था। सुबह से ही डीएसपी मित्र पाल के नेतृत्व में भारी पुलिस बल स्कूल में तैनात था। दूसरी और ग्रामीण इस बात पर अड़ गए कि जिस व्यक्ति सचिन को मशीन तोड़ने के आरोप में गिरफ्तार किया है, पहले उसे रिहा किया जाए। रिहा करने पर ही ग्रामीण मतदान का हिस्सा बनेंगे।

सिर्फ एक मतदाता ने डाला वोट

सुबह जैसे ही यह सूचना पहुंची कि एक घंटे में कोई मतदाता नहीं आया है। इस पर एसपी नारनौल दीपक सहारण ने गांव के बूथ का दौरा किया। बाद में एसडीएम एवं रिटर्निंग ऑफिसर प्रितपाल सिंह मौके पर पहुंचे। गांव में पूर्व स्वास्थ्य मंत्री राव नरेन्द्र सिंह एवं अन्य पार्टियों के नेता एवं कार्यकर्ता भी पहुंचे, लेकिन सुबह 7:00 बजे से 8:30 बजे तक केवल एक ही मतदाता ने मतदान में भाग लिया। 

अकबरपुर रामू में कुल 1159 वोटर हैं और 21 अक्टूबर को 856 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था। जब 819वां मतदान किया जा रहा था, तब सचिन नामक व्यक्ति से वीवी पैट फर्श पर गिरने पर टूट गई थी। सचिन पर आरोप है कि उसने नशे की हालत में यह कार्य किया।

उधर, रेवाड़ी जिले के कोसली विधानसभा के गांव छव्वा गांव में शांतिपूर्वक मतदान हुआ। यहां पर सुबह 7:00 बजे वोटिंग शुरू हुई।  सुबह 7 से 9 के बीच छव्वा में 892 में से 150 मतदाताओं ने वोट डाल चुके थे। 

 ये भी पढ़ेंः Haryana election 2019: पृथला विधानसभा क्षेत्र के गांव छायसां में पुनर्मतदान जारी

 दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक 

 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.