Haryana Assembly Election 2019: बीरेंद्र सिंह ने कहा- उचाना में प्रशासन ने दुष्यंत चौटाला के इशारे पर किया काम

उचाना, जेएनएन। Haryana Assembly Election 2019 में मतगणना से पहले आरोप-प्रत्‍यारोप शुरू हो गया है। भाजपा नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने जिला प्रशासन पर मतदान के दौरान निष्‍पक्ष नहीं होने आ आरोप लगाया है। उन्‍होंने कहा कि प्रशासन ने मतदान व चुनाव में दुष्यंत चौटाला के इशारे पर काम किया।

गांव डूमरखां कलां स्थित अपने घर पर पत्रकारों से बातचीत में बीरेंद्र ने कहा कि गांव छातर के बारे में रिटर्निंग ऑफिसर को बहुत बार कहा गया कि वहां आप जाएं, क्योंकि पोलिंग बूथ जिस स्कूल में हैं, वहां 500 से 700 लोग मौजूद हैं। हमने मांग की कि इन लोगों को स्कूल से बाहर किया जाए और वहां पुलिस तैनात की जाए, लेकिन ऐसा नहीं किया गया। उन्‍होंने कहा कि खरकभूरा गांव में डीसी, एसपी के निर्देश पर उचाना के एसएचओ ओर उसकी फोर्स को छह घंटे तक बैठा कर रखा, जिससे भाजपा कार्यकर्ताओं को आतंकित किया जा सके और वोटिंग करने में सुस्ती बरतें।

कहा- दुष्यंत ने खुद पर हमले की बात को किया वायरल

बीरेंद्र सिंह ने कहा कि करसिंधु गांव में 80 प्रतिशत से ज्यादा मतदान हुआ। हमारे दोनों गांवों को 76 प्रतिशत पर खड़ा कर दिया, जबकि परंपरागत ये गांव कभी भी 80, 85, 90 प्रतिशत से कम मतदान नहीं करते, चाहे करें किसी भी पक्ष में। जिस प्रकार का माहौल दुष्यंत चौटाला ने बनाने की कोशिश की गई और फिर यह कहना कि उन पर हमला किया गया वह सही नहीं था।

उन्‍होंने कहा, दुष्‍यंत का कहना है कि प्लास्टिक का गिलास फेंका गया। गिलास फेंकना न फेंकना अलग बात है, लेकिन फेंका भी गया तो कितनी इंजरी हुई। इस चीज को भुनाने के लिए फिर इस बात को वायरल करवाया कि ताकि पूरे हलके में ये संदेश जाए कि दुष्यंत चौटाला पर हमला हुआ है।

करसिंधु में हुआ फर्जी मतदान

बीरेंद्र सिंह ने कहा कि हमने भी एक शिकायत उचाना आरओ को करसिंधु में फर्जी मतदान को लेकर की है। एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें ईवीएम के पास जाकर एक महिला हर महिला के साथ बटन दबाती थी और बाहर आती थी। ये वीडियो जब वायरल हुआ था तो चुनाव आयोग ने भी इसका नोटिस लिया। हमने भी शिकायत की कि वहां दो बूथ 71, 73 पर धांधली हुई है। जब यह वीडियो वायरल हुआ तो इस महिला का पता लगाया गया तो पता चला कि यह महिला करसिंधु गांव के ही पूर्व मंत्री की पुत्रवधू है।

बीरेंद्र सिंह ने कहा कि डूमरखां खुर्द गांव में दो घंटे तक 200 पुलिस के जवान, 20 गाड़ियां, जिले के डीसी, एसपी यहां आकर हमारे मतदाताओं को दुष्यंत चौटाला की मौजूदगी में हमारे मतदाताओं को वोट डालने से एक किस्म से दूर रखा गया। ये किसी भी मतदाता के अधिकार का हनन है, चुनाव आयोग इसको नोटिस में लेकर दोबारा से मतदान करवाए। करसिंधु गांव में दो बूथों का तो मैंने जिक्र किया है वहां सभी बूथों में फर्जी पोलिंग हुई है। इसलिए वहां दोबारा से मतदान हो। डूमरखां कलां, डूमरखां खुर्द में दोबारा से मतदान की मांग जेजेपी ने की थी करसिंधु की हम कर रहे हैं। बता दें कि करसिंधु में आज पुनर्मतदान हो रहा है।

डीसी बोले, प्रशासन निष्पक्ष रहा

बीरेंद्र सिंह के आरोपों पर डीसी डॉ. आदित्य दहिया ने कहा कि प्रशासन पूरी तरह निष्पक्ष था। करसिंधु में जुगमिंद्र की शिकायत को जायज मानते हुए चुनाव आयोग से दोबारा मतदान की मांग की गई थी, जिस पर बुधवार को पनर्मतदान हो रहा है। डूमरखां में कैप्चरिंग की बात सामने नहीं आई।

   

 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.