बिहार के सीएम नीतीश कुमार को दिल्ली में झटका, जदयू नेता समर्थकों संग AAP में शामिल

नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Delhi assembly Election 2020: दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में अब सिर्फ 4 महीने से भी कम का वक्त बचा है। ऐसे में सियासी उठापटक के साथ राजनेताओं का पार्टी बदलने का सिलसिला भी तेज हो गया है। पिछले एक महीने के दौरान अलका लांबा समेत दर्जन भर छोटे-बड़े नेता एक से दूसरे दलों में जा चुके हैं। ताजा मामले में जनता दल यूनाइटेड (Janta Dal United) के प्रधान महासचिव नरेंद्र सिंह (Narendra Singh) अपने समर्थकों के साथ सोमवार को आम आदमी पार्टी (Aam aadmi party) में शामिल हो गए। पार्टी मुख्यालय में प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता व राज्यसभा सदस्य संजय सिंह (member of Rajya Sabaha sanjay singh) ने कहा कि पिछले कई दिनों से आम आदमी पार्टी दिल्ली के अलग-अलग विधानसभा क्षेत्रों में आपन पूर्वांचल कार्यक्रम चला रही है।

दिल्ली सरकार द्वारा पूर्वांचलियों के हित में किए गए कार्यों से प्रभावित होकर पूर्वांचल से संबंध रखने वाले बहुत सारे नेता आम आदमी पार्टी में शामिल हो रहे हैं। इसी कड़ी में पूर्वांचल से संबंध रखने वाले नरेंद्र सिंह अपने समर्थकों के साथ आम आदमी पार्टी में शामिल हो गए हैं।

इस मौके पर आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता और वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा कि जिस प्रकार से आम आदमी पार्टी की सरकार ने दिल्ली में विकास कार्य कराए हैं, उससे जनता खुश है।

दिल्ली प्रदेश जदयू के कार्यक्रम में शामिल होंगे नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 23 को दिल्ली प्रदेश जदयू के प्रशिक्षण शिविर में शामिल होंगे। इसके अतिरिक्त उन्हें बदरपुर में आयोजित पार्टी के एक कार्यक्रम में भी शामिल होना है। जदयू से मिली जानकारी के अनुसार इस बार दिल्ली विधानसभा चुनाव में पार्टी कुछ चुने हुए विधानसभा क्षेत्रों पर अपने प्रत्याशी देगी। इसके लिए जदयू ने अभी से ही अपनी कवायद आरंभ कर दी है। (राब्यू )चल से संबंध रखने वाले और नेता भी आप से जुड़ेंगे।

गौरतलब है कि आगामी दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 की तैयारी में भारतीय जनता पार्टी, कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी के साथ बिहार में सत्तासीन जनता दल यू भी लड़ने का इच्छुक है। इसका एलान जदयू पहले ही कर चुका है। बता दें कि बिहार और यूपी के लोग बड़ी संख्या में दिल्ली में रहते हैं, जो दिल्ली विधानसभा चुनाव को प्रभावित करने का भी माद्दा रखते हैं, ऐसे में जदयू का यहां पर भी प्रभाव है और उसका असर भी देखने का मिल सकता है।

केजरीवाल-नीतीश में थी कभी  करीबी

यहां पर याद दिला दें कि एक समय ऐसा भी था जब दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और बिहार के मु्ख्यमंत्री नीतीश कुमार में आपसी समझ काफी अच्छी थी। दोनों एक दूसरे से अक्सर मिलते भी थे। यहां तक कि बिहार में वर्ष-2015 में जब जनता दल यू और राष्ट्रीय जनता दल गठबंधन की सरकार बनी तो शपथ ग्रहण में भी केजरीवाल ने शिरकत की थी और वह इस दौरान आकर्षण का केंद्र रहे थे।

वहीं, 2017 में जब राजद से नाता तोड़कर बिहार में भाजपा के साथ सरकार बनाई तब से केजरीवाल और नीतीश की राहें अलग हो गईं। अब दोनों कभी-कभार मिलते हैं।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.