CG Election 2018: स्कूल बसों का अधिग्रहण, बच्चों को करनी पड़ेगी मशक्कत

रायपुर। विधानसभा चुनाव में स्कूल बसों केअधिग्रहण से सोमवार को बच्चों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। स्कूल बसों को चुनावी ड्यूटी में लगा दिया गया है। ठीक इसी तरह राजधानी से चलने वाली 80 प्रतिशत गाड़ियों का अधिग्रहण किया गया है। रायपुर से नागपुर और रायपुर से बिलासपुर जाने वाले यात्री ट्रेन से सफर करने को मजबूर हैं। वहीं रायपुर से जगदलपुर, रायपुर से सरायपाली, रायपुर से बलौदाबाजार, रायपुर से कवर्धा, सारंगढ़, नारायणपुर जाने वाले यात्रियों को सफर के लिए वाहन नहीं मिल रहे हैं।

यात्री वाहन के लिए यात्री भटक रहे हैं। ट्रैवेल्स संचालक का कहना है कि रायपुर से नागपुर रूट पर एक दिन में 150 बसें चलती हैं, लेकिन उनके अधिग्रहण के कारण 20 प्रतिशत बसें ही इस रूट पर चल रही हैं। वहीं आरटीओ अधिकारी का कहना है कि वाहन को लेकर यात्रियों को किसी प्रकार की समस्या नहीं हो रही है।

मिनी माता पंडरी बस स्टैंड से एक दिन में करीब 50 हजार यात्री सफर करते हैं। पंडरी बस स्टैंड से एक दिन में 800 गाड़ियां आती-जाती हैं, लेकिन वर्तमान में पंडरी बस स्टैंड से एक दिन में मात्र 100 बसें ही आ-जा रही हैं।

नईदुनिया की टीम ने रविवार को पंडरी बस स्टैंड की पड़ताल की तो जो तथ्य सामने आए, वे काफी चौंकाने वाले हैं। पंडरी बस स्टैंड में जहां बसों की भरमार देखती थी, वहीं रविवार को महज आठ से दस बसें ही खड़ी नजर आईं। बसों के न होने से पंडरी बस स्टैंड पर यात्री भी नहीं पहुंच रहे हैं। यात्रियों के न पहुंचने से पंडरी बस स्टैंड पर सन्नााटा नजर आया।

95 फीसदी बसों का अधिग्रहण

छग यातायात महासंघ के महासचिव एवं साई टै्रवेल्स के संचालक सफीक रजा ने नईदुनिया को बताया कि पंडरी बस स्टैंड से उनकी 30 गाड़ियां प्रतिदिन आती-जाती थीं, लेकिन चुनाव में 25 गाड़ियों का अधिग्रहण किया गया है। यात्री बसों के अधिग्रहण से राजधानी से जुड़े आसपास के दूसरे जिलों में परिवहन सेवाएं पूरी तरह ठप हो गई हैं। बस ऑपरेटरों का कहना है कि 95 फीसदी यात्री बसों का अधिग्रहण किया जा चुका है।

इस कारण सड़कों पर यात्री बसें दिखाई नहीं दे रही हैं। रायपुर से नागपुर, रायपुर से जगदलपुर, रायपुर से बिलासपुर, रायपुर से सरायपाली, रायपुर से बलौदाबाजार, रायपुर से जगदलपुर के रूटों पर एक दिन में करीब 150 गाड़ियां आवागमन करती है, लेकिन चुनाव की वजह से इन रूटों पर सिर्फ प्रतिशत बसें ही संचालित हो रही हैं। इस वजह से यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

स्कूल बस अधिग्रहण से स्कूलों पर पड़ेगा असर

राजधानी में 20 नवंबर को विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होगा। मतदान के लिए 17 तारीख की शाम को रायपुर 450 बस, महासमुंद 150 बस, बलौदाबाजार 140 और गरियाबंद के लिए 125 स्कूल और प्राइवेट बसों का अधिग्रहण किया गया है। राजधानी में सोमवार को स्कूल खुला है।

ऐसे में बसों से स्कूल जाने वाले बच्चों को स्कूल पहुंचाने में उनके परिजनों को काफी मशक्कत करनी पड़ेगी। परिवहन अधिकारी का कहना है कि ज्यादातर स्कूलों को मतदान स्थल बनाया गया है। सोमवार को सारे मतदान दल स्कूलों में पहुंच जाएंगे। 20 और 21 नवंबर को शासन ने अवकाश घोषित किया है। इससे किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी।

यात्री कर लें तैयारी, तब निकलें घर से

विधानसभा चुनाव से संबंधित कामों के लिए यात्री बसों के अधिग्रहण के चलते 21 नवंबर तक यात्री बसें सिर्फ नाम मात्र ही चलेंगी । इस व्यवस्था के कारण यात्री घर से निकलने से पहले अभी से ट्रैवल प्लान तय कर लें, जिससे घर से निकलने के बाद सफर में किसी प्रकार की दिक्कत न होने पाए। परिवहन अधिकारी ने बताया कि राजधानी और मंत्रालय जाने वाले यात्रियों को किसा प्रकार की दिक्कत ना हो इसके लिए सिटी बस शहर में संचालित की जा रही है।

चार दिन तक सरकारी कामकाज ठप

प्रदेश में 72 सीटों पर 20 नवंबर को मतदान होगा। मतदान के दिन शासकीय अवकाश घोषित किया गया है। इससे पहले 19 नवंबर को चुनावी तैयारी के तहत मतदान दलों को रवाना करने के कारण ज्यादातर सरकारी कर्मचारी चुनाव से संबंधित कार्य ही करेंगे। 17 और तृतीय शनिवार तथा 18 नवंबर को रविवार होने के कारण अवकाश था। इस दौरान चार दिनों तक जाति प्रमाणपत्र, जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र, निवास प्रमाणपत्र बनाने समेत अन्य कार्य प्रभावित रहेंगे।

- चुनाव में मतदान दलों के लिए बसों का अधिग्रहण किया गया है। सोमवार को स्कूल पर मदतान दल पहुंच जाएंगे। बसों का अधिग्रहण ध्यान में रखकर किया गया है। स्कूली बच्चों या यात्रियों को किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी। - पुलक भट्टाचार्य, आरटीओ, रायपुर

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.