top menutop menutop menu

पुलिस ने सार्वजनिक जगहों पर बढ़ाई गश्त

जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली : लॉकडाउन के बाद पहले अनलॉक-1 और अब अनलॉक-2 में लोगों की सार्वजनिक जगहों पर मौजूदगी धीरे-धीरे बढ़ रही है। ऐसे में पुलिस भी अब सार्वजनिक स्थानों पर अपनी उपस्थिति अधिक से अधिक दर्ज करा रही है, ताकि जनता खुद को सुरक्षित महसूस कर सके। पुलिस पार्को, सड़कों, गलियों व बाजारों में अधिक से अधिक गश्त पर जोर दे रही है। पुलिस के आसपास होने से अपराधियों के मन में डर बना रहता है, जिससे वह अपराध को अंजाम देने से घबराते हैं।

हाल ही में द्वारका जिला हो या पश्चिमी जिला दोनों जिलों में लूट, झपटमारी व गोली चलने की कई वारदात सामने आई। इसे देखते हुए पुलिस ने गश्त पर जोर देना शुरू कर दिया। दोनों ही जिलों में गश्त को लेकर एक व्यापक रणनीति तैयार की गई। उन गलियारों को चिन्हित किया गया जहां अपराधिक तत्वों की सक्रियता अधिक पाई गई। इसके लिए एक पैटर्न तैयार किया गया, ताकि यह पता चल सके कि किस समय व कहां आपराधिक तत्व अधिक सक्रिय रहते हैं। इस पैटर्न के आधार पर पुलिस ने गश्त करना शुरू कर दिया।

खासकर शाम के समय इंस्पेक्टर रैंक के अधिकारी क्षेत्र में खुद जगह-जगह पैदल गश्त करें। इस निर्देश का असर कई जगह देखने को मिल रहा है। उपनगरी द्वारका में इन दिनों सुबह व शाम के समय पार्को में पुलिसकर्मी गश्त पर नजर आते हैं। गश्त के दौरान पुलिसकर्मी लोगों से मिलकर एक ओर जहां उनका हालचाल पूछ उनसे मेल-जोल बढ़ा रहे हैं, वहीं लगे हाथ उनकी समस्याओं का जायजा भी ले रहे हैं। साइकिल पर गश्त

द्वारका साउथ थाना क्षेत्र में पुलिसकर्मी सुबह व शाम के समय साइकिल पर गश्त पर खूब नजर आते हैं। पुलिसकर्मियों को साइकिल से गश्त करता देख लोगों को काफी प्रसन्नता भी हो रही है। लोगों को यह लग रहा है कि पुलिस को सही में क्षेत्र को विधि व्यवस्था को लेकर फिक्र है। वहीं पार्को में पुलिसकर्मी शाम के समय बुजुर्गो से सीधा संवाद स्थापित कर उनसे सुरक्षा से जुड़ी समस्याओं का जायजा लेते हैं, ताकि समाधान की दिशा में कदम उठाया जा सके। बॉक्स

सार्वजनिक स्थानों पर पुलिस की उपस्थिति अधिक से अधिक नजर आए, इसे लेकर गश्त पर जोर दिया जा रहा है। हम लोग स्थानीय संगठनों के संपर्क में हैं। लोगों की ओर से भी सुरक्षा के बाबत सुझाव मिलते रहते हैं। जनता-पुलिस का सहयोग दिनोंदिन मजबूत हो रहा है, जिसका असर अपराध नियंत्रण पर भी दिख रहा है।

एंटो अल्फोंस, उपायुक्त, द्वारका जिला पुलिस

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.