दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

पश्चिम बंगाल से हिंदुओं के पलायन पर विहिप चिंतित, कहा- सरकार को सख्त कदम उठाने की जरूरत

हिंदुओं के पलायन पर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने गहरी चिंता व्यक्त की है।

विहिप के केंद्रीय संयुक्त महामंत्री डा. सुरेंद्र जैन ने आनलाइन संबोधन में कहा कि चिंता की बात यह कि उसी राज्य में सरकार व सत्तारूढ़ पार्टी द्वारा बांग्लादेशी व रोहिंग्या घुसपैठियों का स्वागत किया जा रहा है ।

Prateek KumarTue, 11 May 2021 06:45 AM (IST)

नई दिल्ली [नेमिष हेमंत]। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव बाद राजनीतिक हिंसा के चलते हिंदुओं के पलायन पर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने गहरी चिंता व्यक्त की है। उसने कहा है कि राज्य में मुस्लिम तुष्टीकरण नीति के चलते सत्ता संरक्षित तत्वों द्वारा हिंदुओं पर हमले कर रहे हैं, जिसके चलते वहां के कुछ हिंदू पड़ोसी राज्य असम पलायन को मजबूर हैं। विहिप के केंद्रीय संयुक्त महामंत्री डा. सुरेंद्र जैन ने आनलाइन संबोधन में कहा कि चिंता की बात यह कि उसी राज्य में सरकार व सत्तारूढ़ पार्टी द्वारा बांग्लादेशी व रोहिंग्या घुसपैठियों का स्वागत किया जा रहा है।

उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि इससे पहले की हिंदू समाज को आत्मरक्षा के लिए खड़ा होना पड़े, सरकार हिंदुओं की सुरक्षा के लिए कठोरतम कार्रवाई करनी हाेगी। जैन आरोप लगाते हुए कहा कि इस आपदा के वक्त भी देश के विभिन्न हिस्सों में कुछ धार्मिक संगठनों द्वारा हिंदुओं के सुनियोजित धर्मांतरण किए जा रहे हैं। जो देश के लिए बड़ा खतरा है।

परशुराम परिषद ने याद दिलाया राजधर्म

पश्चिम बंगाल में जारी हिंसा के बीच राष्ट्रीय परशुराम परिषद ने राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को राजधर्म याद दिलाया है। केंद्रीय मीडिया प्रभारी आरबी उपाध्याय ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि विजयी व्यक्ति को विनम्र हो जाना चाहिए। जीत पर लूटपाट, हमलों और दुष्कर्मों का जश्न अब बंद हो जाना चाहिए। बदले की भावना से कोई सदाचारी शासक ऐसा नहीं करता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.