50 करोड़ का लोन दिलाने का झांसा देकर 96 लाख रुपये ठगे, सात गिरफ्तार

मुंबई के बिल्डर से हुई थी 96 लाख रुपये की ठगी।

पीड़ित ने पुलिस को बताया था कि कारोबार के लिए उन्हें काफी अधिक रुपयों की जरूरत थी। उनके परिचित सुधीर दुबे नाम के शख्स ने करार हुसैन से उनकी मुलाकात करवाई थी। सुधीर ने उन्हें बताया कि करार हुसैन 50 करोड़ रुपये का लोन दिलवा सकता है।

Prateek KumarMon, 12 Apr 2021 06:45 AM (IST)

नई दिल्ली [शुजाउद्दीन]। 50 करोड़ का लोन दिलाने का झांसा देकर मुंबई के बिल्डर से 96 लाख रुपये ठगने वाले सात लोगों को लक्ष्मी नगर थाना पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपितों की पहचान दिल्ली निवासी गोविंद झा, महाराष्ट्र निवासी संजू सिंह उर्फ दिनेश, करार हुसैन खान उर्फ भावेश, वसीम उर्फ उमेश, उत्तर प्रदेश निवासी विजय उर्फ अभय प्रताप, तौफिक अहमद और बिहार निवासी आनंद सिंह के रूप में हुई है।

पुलिस ने इनके पास से 30 लाख रुपये और लोन के लिए तैयार किए गए फर्जी कागजात की कलर फोटो स्टेट प्रतियां बरामद की हैं। जिला पुलिस उपायुक्त दीपक यादव ने बताया कि छह अप्रैल को ईस्ट मुंबई निवासी पंकज कुमार सिंह नाम के बिल्डर ने लक्ष्मी नगर थाने में 96 लाख रुपये ठगी का मामला दर्ज करवाया था।

पीड़ित ने पुलिस को बताया था कि कारोबार के लिए उन्हें काफी अधिक रुपयों की जरूरत थी। उनके परिचित सुधीर दुबे नाम के शख्स ने करार हुसैन से उनकी मुलाकात करवाई थी। सुधीर ने उन्हें बताया कि करार हुसैन 50 करोड़ रुपये का लोन दिलवा सकता है। करार ने पीड़ित को आनंद सिंह से मिलवाया।

दिल्ली-एनसीआर समेत देश के कई राज्यों में ठगों ने बिल्डर के साथ बैठकें की। गोविंद झा पीड़ित से फाइनेंसर के रूप में मिला। उसने पीड़ित से लोन के कागजात बनवाने के नाम पर डेढ़ करोड़ रुपये एडवांस मांगे, पीड़ित झांसे में आ गए और 96 लाख रुपये की रकम नकद और चेक के जरिये दे दी।

13 फरवरी को पीड़ित को गुजरात बुलाया और बाद में चेन्नई एयरपोर्ट बुलाया। यहां ठगों ने पीड़ित के सामने लोन के पेपर खोने का नाटक किया और पीड़ित से दूरी बना ली। पुलिस ने एसीपी प्रीत विहार वीरेंद्र पुंज की देखरेख में थानाध्यक्ष धनंजय प्रताप सिंह, एसआइ आनंद प्रताप व सुनील पंवार की टीम बनाई।

टीम ने मोबाइल लोकेशन के आधार पर गोविंद झा को लक्ष्मी नगर से दबोच लिया। इसकी निशानदेही पर 30 लाख रुपये रकम बरामद कर ली। बाद में छह आरोपितों को अलग-अलग जगहों से गिरफ्तार कर लिया। जांच में पुलिस काे पता चला ठगी का मुख्य साजिशकर्ता करार हुसैन खान है। उसी ने बाकी लोगों को ठगी में शामिल किया था। रुपये ठगने के बाद फोन बंद करके फरार हो गए थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.