Rohit murder case: मां उज्ज्वला ने रोहित की पत्नी अपूर्वा को लेकर दिया बड़ा बयान

नई दिल्ली, प्रेट्र। रोहित शेखर हत्याकांड में रोहित की मां उज्ज्वला शर्मा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अपूर्वा की नीयत उन्हें पहले से ठीक नहीं लग रही थी। इसके बारे में उन्होंने रोहित को आगाह किया था। उन्होंने कहा कि शायद रोहित ने मेरी बात पर ध्यान नहीं दिया। उज्ज्वला ने कहा कि अपूर्वा ने रोहित की हत्या कर मेरे पूरे परिवार को खत्म कर दिया। उज्ज्वला का आरोप है कि अपूर्वा ने शादी के कुछ ही दिन बाद मई 2018 में रोहित को दो कानूनी नोटिस भी भेजवाया था।

रोहित की मां ने मीडिया को बताया कि अपूर्वा चाहती थी कि रोहित उसको आपसी सहमति से तलाक दे, नहीं तो वह उसके खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज करवा देगी। जब रोहित अस्पताल में भर्ती था तब भी अपूर्वा उस पर आधारहीन आरोप लगाती थी। रोहित की मां ने बताया कि 12 सितंबर को रोहित की सर्जरी हुई थी। उसके दूसरे दिन उज्ज्वला अपूर्वा के वकील वेदांत वर्मा के घर पर अपूर्वा से मिलने पहुंचीं थीं। उन्होंने रोहित के अस्पताल में भर्ती होने की बात अपूर्वा को बताई और उससे मिलने के लिए कहा, लेकिन अपूर्वा तैयार नहीं थी। उज्ज्वला का आरोप है कि अपूर्वा रोहित से आपसी सहमति के साथ तलाक चाहती थी, साथ ही मेंटिनेंस भी चाहती थी। उज्ज्वला का आरोप है कि अपूर्वा कानूनी हथकंडे का डर दिखाकर रोहित को मानसिक रूप से प्रताड़ित करती थी।

शादी से नाखुश थी अपूर्वा

रोहित की मां उज्ज्वला शर्मा के मुताबिक, रोहित और अपूर्वा की लव मैरिज थी और मैट्रिमोनियल साइट के जरिये एक-दूसरे के संपर्क में आए थे। हत्या की पड़ताल कर रही क्राइम ब्रांच का कहना है कि अपूर्वा कई वजहों से रोहित के साथ शादी करके खुश नहीं थी। सूत्रों के मुताबिक, अपूर्वा की नजर रोहित की दौलत पर थी, लेकिन शादी के बाद उसे पता चला कि रोहित के नाम पर कुछ भी नहीं है। वहीं, शादी के बाद अपूर्वा इस बात से भी परेशान रहने लगी थी कि रोहित नशे का आदी था। इसके साथ ही वह नींद की दवाइयां भी लेता था। अपूर्वा इस बात से और परेशान थी कि रोहित हृदय रोगी (Heart Patient) था और दो बार उसे हार्ट अटैक आ चुका था।

घटना वाली रात को रात को अपूर्वा ने विवाद के दौरान रोहित की गला दबाकर हत्या कर दी। तीन दिन तक चली गहन पूछताछ के बाद पुलिस ने बुधवार को सुबह उसे गिरफ्तार कर लिया। इससे पहले रविवार को पूछताछ के सिलसिले में क्राइम ब्रांच अपूर्वा, एक महिला घरेलू सहायिका और एक पुरुष घरेलू सहायक को एक अज्ञात स्थान पर ले गई थी। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने 18 अप्रैल को ही अपूर्वा के खिलाफ सेक्शन-302 के तहत मुकदमा दर्ज किया था।

दरअसल, पीएम रिपोर्ट में अप्राकृतिक मौत का खुलासा हुआ था, इसमें पाया गया था कि गला दबाने से रोहित की मौत हुई है। इसके बाद मामला क्राइम ब्रांच को ट्रांसफर कर दिया था। इसके बाद जांच की कड़ी में सेंट्रल फोरेंसिक साइंस लैब (Central Forensic Science Laboratory) की टीम रोहित के डिफेंस कॉलोनी स्थित आवास पर पहुंची और यहां पर वारदात का पूरा सीन रिक्रिएट किया और यहां पर सूबत जुटाए। सीसीटीवी फुटेज से भी पता चला कि रोहित 15 अप्रैल की रात को नशे की हालत में आए और अपने कमरे में जाकर सो गए। जांच के दौरान टीम ने पाया कि घर में सात सीसीटीवी कैमरे लगे थे, लेकिन दो काम नहीं कर रहे थे। बता दें कि अपूर्वा दिल्ली में वकील हैं और मूल रूप से इंदौर की रहने वाली हैं, साथ ही उसके पिता वहां के नामी वकील हैं।

पीएम रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि रोहित की मौत 15-16 अप्रैल की रात हुई थी। एम्स में 5 डॉक्टरों की टीम ने पोस्टमॉर्टम किया था। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चला था कि मौत गला दबाने से हुई। हालांकि, नौकर भोला और ड्राइवर से लंबी पूछताछ हुई थी, लेकिन शुरू से शक रोहित की पत्नी पर था, क्योंकि वह सवालों के जवाब ठीक से नहीं दे रही थी।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.