जरुरतमंदों की मदद कर चेहरे पर मुस्कान ला रहे समाजसेवी दंपत्ति, बन रहे औरों के लिए प्रेरणास्रोत

आयकर विभाग के सेवानिवृत्त महानिदेशक समाजसेवी सुरेश चंद्र मिश्रा और उनकी पत्नी ज्योत्सना मिश्रा जरुरतमंद लोगों और बच्चों को गर्म कपड़े जूते बांट रहे हैं। पिछले साल भी इन्होंने आनलाइन शिक्षण से वंचित 20 जरूरतमंद विद्यार्थियों को टैबलेट भेंट किए थे।

Mangal YadavSun, 28 Nov 2021 06:06 AM (IST)
आयकर विभाग के सेवानिवृत्त महानिदेशक समाजसेवी सुरेश चंद्र मिश्रा और उनकी पत्नी ज्योत्सना मिश्रा

नई दिल्ली [रितु राणा]। इस समाज में ऐसे बहुत से लोग हैं जो गरीबों और जरुरतमंदों की मदद के लिए हमेशा आगे आते रहे हैं। कोरोना की लहर के दौरान भी और इसके बाद भी कई ऐसे समाजसेवी हैं जो जरुरतमंदों की मदद कर रहे हैं। आयकर विभाग के सेवानिवृत्त महानिदेशक समाजसेवी सुरेश चंद्र मिश्रा और उनकी पत्नी ज्योत्सना मिश्रा भी उन्हीं लोगों में हैं जो गरीबों की समय-समय पर मदद करते रहे हैं। ठंड में कोई गरीब और जरुरतमंद परेशान न हो इसलिए ये दंपत्ति लोगों को गर्म कपड़े जूते बांट रहे हैं।

इसी क्रम में वेस्ट विनोद नगर स्थित राजकीय सर्वोदय बाल विद्यालय में जरूरतमंद बच्चों को निश्शुल्क गर्म कपड़ों व जूतों का वितरण किया। इस दौरान विद्यार्थियों को पढ़ाई के साथ साथ सामाजिक कार्य व पर्यावरण सरंक्षण में योगदान देने के लिए प्रोत्साहित भी किया गया। शनिवार को विद्यालय में आयकर विभाग के सेवानिवृत्त महानिदेशक समाजसेवी सुरेश चंद्र मिश्रा व उनकी पत्नी ज्योत्सना मिश्रा द्वारा 150 विद्यार्थियों को कपड़े व जूते वितरित किए गए।

इस अवसर पर सुरेश चंद्र ने कहा कि यह दिल्ली सरकार का पायलट प्रोजेक्ट स्कूल है, जिसे बेहतर पढ़ाई के लिए जाना जाता है, इसलिए बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिए वह यहां पहुंचे हैं। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि पर्यावरण संरक्षण में योगदान देने के लिए अधिक से अधिक पौधे लगाएं। साथ ही दूसरों को भी प्रेरित करें। साथ ही विद्यालय प्रमुख डा. एलके दुबे ने बताया कि 81 वर्षीय सुरेश चंद्र मिश्रा स्कूल के पास ही रहते हैं।

20 जरूरतमंद विद्यार्थियों को भेंट किए थे टैबलेट

पिछले साल भी समाजसेवी सुरेश चंद्र मिश्रा और उनकी पत्नी ज्योत्सना मिश्रा ने दरियादिली दिखाते हुए आनलाइन शिक्षण से वंचित 20 जरूरतमंद विद्यार्थियों को टैबलेट भेंट किए थे। लाकडाउन और कोरोना के कारण जब बच्चों की क्लास आनलाइन होने लगी तो कई ऐसे भी छात्र थे जिनके पास मोबाइल नही था। बच्चों की परेशानी को देखते हुए मिश्रा दंपत्ति ने जरुरतमंदों को टैबलेट देने का फैसला किया। उनके इस सराहनीय कार्य से कई बच्चों के चेहरे खिल उठे।

शनिवार को जब उन्होंने जरुरतमंदों को गर्म कपड़े और जूते बांटे तो स्कूल प्रबंधन ने इनका शुक्रिया अदा किया और उनके कार्यों की जमकर तारीफ की। इस मौके पर विद्यालय के अध्यापक संजय तिवारी, एसडी शर्मा, नरेंद्र कुमार, वीके शर्मा, सतेंद्र मालिक, वीरेश कुमार, मनीष ओमर सहित विद्यालय की प्रबंधन समिति के सदस्य मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.