दुनिया हम पर हंस रही है Kisan Andolan में उपद्रवियों की करतूत से खफा कुमार विश्वास ने किया ट्वीट

देश के जाने-माने कवि कुमार विश्वास की फाइल फोटो।

हिंसक आंदोलन को लेकर देश के जाने-माने कवि कुमार विश्वास ने ट्वीट कर चिंता जताते हुए किसानों को एक तरह से नसीहत भी दी है। ट्वीट में उन्होंने कहा है- संविधान की मान्यता के पर्व पर देश की राजधानी के दृश्य लोकतंत्र की गरिमा को चोट पहुंचाने वाले हैं।

Publish Date:Tue, 26 Jan 2021 07:34 PM (IST) Author: JP Yadav

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। राजधानी दिल्ली में गणतंत्र दिवस के दिन मंगलवार को हुए हिंसक प्रदर्शन से कवि कुमार विश्वास बेहद नाराज हैं। हिंसक आंदोलन को लेकर देश के जाने-माने कवि कुमार विश्वास ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर चिंता जताते हुए किसानों को एक तरह से नसीहत भी दी है। ताजा ट्वीट में कवि कुमार विश्वास ने कहा है- 'सोचकर और देखकर मन बहुत ख़राब है! हमें क्षमा करना पुण्य-पूर्वजों हमारी सोच, हमारे काम व हमारी व्यवस्था ने आपके बलिदानों से अर्जित गणतंत्र दिवस को दुख का दिन बना दिया। Folded hands कोई एक पक्ष नहीं, एक देश के नाते हम सब ज़िम्मेदार हैं, हम सबने एक दूसरे को दुख पहुंचाया ! दुनिया हम पर हंस रही है।'

Farmer Protest : दिल्‍ली हिंसा के बाद किसान आंदोलन में बड़ी फूट, दो गुटों ने खत्‍म किया धरना

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा है- 'संविधान की मान्यता के पर्व पर देश की राजधानी के दृश्य लोकतंत्र की गरिमा को चोट पहुंचाने वाले हैं। याद रखिए देश का सम्मान है तो आप हैं। हिंसा लोकतंत्र की जड़ों में दीमक के समान है। जो लोग मर्यादा के बाहर जा रहे हैं वे अपने आंदोलन व अपनी मांग की वैधता व संघर्ष को ख़त्म कर रहे हैं।' इसी के साथ दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा है- 'आंदोलनों की सफलता इन चार बातों पर निर्भर होती हैं- (१)आंदोलन का उद्देश्य आख़री आदमी तक सही-सही समझा पाना। (२)आंदोलन के कुछ सर्वसम्मति से बने मानक चेहरे होने। (३)आंदोलन की गति सता विरोध से किसी भी हाल में देश-विरोधी न होने देना। (४)राष्ट्रीय सम्पत्ति,राष्ट्रीय मनोबल पर चोट न करना।'

ये भी पढ़ेंः दिल्ली हिंसा मामले में राकेश टिकैत व दर्शन पाल समेत 40 किसान नेताओं के खिलाफ FIR

उधर, किसानों के हिंसक प्रदर्शन को लेकर भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि जिन्‍होंने भी ये सब किया है, वे सब हमारी नजर में हैं। सब लोग चिह्नित हैं। इसके साथ ही उन्‍होंने कहा कि ये जो सब उपद्रव कर रहे हैं, वो पॉलिटिकल पार्टी के लोग हैं।

 ये भी पढ़ेंः Red Fort Violence: उपद्रवियों की क्रूरता का वीडियो आया सामने, जान बचाने को खाई में कूद गए थे सुरक्षाकर्मी

गौरतलब है कि मंगलवार को किसानों द्वारा निकाली जा रही ट्रैक्‍टर परेड के दौरान दिल्ली के कई इलाकों में प्रदर्शनकारी किसान उग्र हो गए। उन्होंने आईटीओ के अलावा टिकरी बॉर्डर पर भी हिंसक प्रदर्शन किया। आइटीओ पर तो किसान बेकाबू हो गए, जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले भी दागे। हद तो तब हो गई जब किसान लाल किला परिसर तक में घुस गए। इतना ही नहीं, उन्होंने लाल किला की प्राचीर पर तिरंगा उतारकर निशान साहिब लगा दिया।

 ये भी पढ़ेंः दिल्ली हिंसा मामले में 200 उपद्रवी हिरासत में, पुलिस ने दर्ज की 35 FIR;  SIT करेगी जांच

 

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.